बवासीर के लक्षण और उपचार – Piles Symptoms and Treatment in Hindi

बवासीर एक बहुत ही दुखदायी और तकलीफ देने वाला रोग होता है जिसमें मरीज को कहीं पर भी बैठने में काफी परेशानी होती है।

इसमें मरीज के गुदा द्वार में मस्से हो जाते हैं जिनमे निरंतर खून बहने और अत्यधिक दर्द होने कारन मरीज काफी कमजोर और दुखी हो जाता है। बवासीर के 2 प्रकार होते हैं – पहला बाहर की बवासीर (external hemorrhoid) और अन्दर की बवासीर (internal hemorrhoid).

बाहर की बवासीर में patient के गुदा द्वार के आसपास मस्से होते हैं जिनमे दर्द तो नहीं होता लेकिन खुजली होती है। उन मस्सों को अधिक खुजलाने की वजह से उनमें से खून भी आने लगता है।

अन्दर की बवासीर में गुदा के अन्दर मस्से होते हैं और मल करते समय जोर लगाने पर रोगी को बेहद तेज दर्द होता है और खून भी बाहर आने लगता है।

बवासीर से बचने के लिए पहले इसके होने के कारणों को भी जानने की जरुरत है, आइये जानते हैं इसके कारन

बवासीर के कारण

  • बवासीर के कारन (Causes of Piles in Hindi)
  • मिर्च-मसाले वाले भोजन का अधिक सेवन करना।
  • एक ही जगह पर अधिक समय तक बैठे रहना।
  • कई घंटो तक कार या गाडी में बैठे रहना।
  • शराब का अधिक करना।
  • शरीर में मोटापा होने पर भी बवासीर होने की सम्भावना होती है।
  • गर्भावस्था के समय महिला को कब्ज होने कारन बवासीर की परेशानी हो सकती है।
  • मल करते समय अधिक प्रेशर लगाने से भी यह परेशानी हो सकती है।
  • रात को अधिक देर तक जागना।
  • पानी का सेवन कम करने से भी बवासीर होने की सम्भावना बढ़ जाती है।
  • मानसिक रोग या डिप्रेशन के कारन भी यह रोग हो सकता है।

नोट – ऊपर दिए गए कारण सामान्य हैं जो आमतौर पर बवासीर के मरीजों में देखे जाते हैं। आपको बवासीर होने का सही कारण जानने के लिए डॉक्टर से उचित जाँच कराएँ।

बवासीर के लक्षण (Symptoms of Piles in Hindi)

  • उठने, बैठने, चलने पर गुदा के स्थान में अत्यधिक दर्द होना।
  • गुदा में बार-बार खुजली होना।
  • रोगी को मल त्यागते समय गुदा वाली जगह पर काफी दर्द होता है और खून भी निकलता है। अधिक खून के बह जाने के कारन रोगी को खून की कमी (anemia) भी हो सकता है।
  • गुदा द्वार में सूजन आ जाती है। अन्दर की बवासीर में मस्से बाहर की तरफ लटकने लगते हैं और मल करने में परेशानी होती है। इस कारन रोगी जोर लगता है जिससे उन मस्सों में से खून की धार बहने लगती है।

यह बवासीर के सामान्य लक्षण हैं जो ज्यादातर मरीजों में देखे जाते हैं।

बवासीर का आयुर्वेदिक घरेलु उपचार (Ayurvedic Home Treatment of Piles in Hindi)

  • 2 लीटर छाछ में थोड़ी सी अजवाइन और जीरा मिलकर पी जाएँ, इसके नियमित सेवन से बवासीर धीरे धीरे ख़त्म हो जाती है।
  • गुड को जिमीकंद के साथ मिलकर नियमित सेवन करें। इसके सेवन से भी बवासीर पर नियंत्रण रखा जा सकता है।
  • मल, मूत्र और gas आने पर उसको ज्यादा समय तक पेट में रोककर न रखें। इससे भी बवासीर होता है।
  • आयुर्वेदिक के अनुसार तिल (sesame) के लड्डू को खाने से भी बवासीर ख़त्म होता है।
  • तरल खाद्य पदार्थों का सेवन अधिक करें जैसे सूप, नारियल पानी (coconut water), पानी, लस्सी, छाछ आदि। इनके अधिक सेवन से मल तरल हो जाता है और मल त्यागते समय तकलीफ नहीं होती।
  • दूध को उबालकर उसमे पके केले को मसलकर डाल दें और घोल तैयार कर लें। इसको दिन में 2 से 3 बार सेवन करें।
  • चुकंदर का रस (beetroot juice), पालक का रस (spinach juice) और गाजर का रस (carrot juice) को रोज पियें।
  • रोजाना बवासीर वाली जगह पर नीम का तेल लगायें, कभी फायदा होगा।
  • शलजम, मेथी, करेला, गाजर, प्याज और अदरक का नियमित सेवन करें।
  • लगातार 3 महीने तक रोज सुबह जामुन का सेवन करें, लाभ मिलेगा।
  • मूली के नियमित से भी बवासीर रोग ख़त्म होता है।
  • पुदीना, अदरक, निम्बू का रस और शहद को पानी में मिलकर रोज सेवन करें।

बवासीर से बचे रहने के उपाय (How to Get Away From Piles in Hindi)

  • आम, पपीता और अंगूर का नियमित सेवन करने से बवासीर नहीं होता।
  • तनाव (stress) से दूर रहें और हमेशा खुश रहें।
  • आलू और बैंगन का कम सेवन करें।
  • Burger, समोसा, pizza, चाट-पकौड़े आदि fast foods का सेवन न करें।
  • तले भुने मसालेदार खाद्य पदार्थों से भी दूर रहें।
  • धुम्रपान, शराब आदि नशीले पदार्थों से दूर रहें।
  • जो लोग अधिक समय तक लगातार एक ही जगह पर बैठे रहते हैं उनको बवासीर होने की सम्भावना काफी बढ़ जाती है। इसलिए बीच-बीच में टहलें और हल्का व्यायाम करें।
  • कब्ज (constipation) को पैदा करने वाले किसी भी खाद्य पदार्थ से दूर रहें।
  • Doctors के मुताबित अत्यधिक उपवास करने से भी बवासीर हो सकता है। उपवास के दौरान आलू की खिचड़ी का अधिक बवासीर का कारन बन सकता है। इसलिए उपवास कम करें और इसके दौरान बीच-बीच में juice, छाछ, सूप आदि का सेवन करते रहें।
  • रात को जल्दी सोयें और सुबह जल्दी उठें।

 

बवासीर का सबसे बड़ा कारन अनियमित खानपान और अनियंत्रित lifestyle होती है, इसलिए अपने जीवन को सुधारें और अनुशासित करें।

इसके आलावा बवासीर से बचे रहने के लिए उचित परहेज भी करना जरुरी होता है, इसलिए सादा भोजन का ही सेवन करें।

66 Responses

  1. सुनील कुमार कहते हैं:

    बवासीर खत्म हो सकता है या नहीं. अगर इसका का इलाज करा लिया जाये तो या दोबारा तो नहीं होता है.

  2. संजू कहते हैं:

    सर मुझे 10-12 साल से लेटरिन में मस्से बाहर आते हैं और जलन के साथ ही खून भी आता है, इसका इलाज क्या है और मुझे क्या करना चाहिए कोई ट्रीटमेंट है तो बताएं.

  3. संजय कहते हैं:

    मेरा नाम संजय है, मेरे गुदा में कभी-कभी मीठी खुजली होती है. लेटरिन करते समय ब्लड नहीं आता तो यह कौन सी बीमारी है.

  4. मोहित कहते हैं:

    सर मुझे बाहर से दर्द होता है, कोई दवा हो तो बताये.

  5. प्रशांत कुमार कहते हैं:

    हाय सर,
    मेरा नाम प्रशान्त है। मैं 22 साल का हूँ।
    मैं एक विद्यार्थी हूँ।
    सर मैं जब मल करता हूँ तो एक नुकीला सा काँटे की तरह चुभता हैं और दर्द भी करता हैं। और उसके बाद मल के साथ में खून भी निकलता हैं। औंर उसके बाद जब मैं मल द्वार धोता हूँ तो वहाँ पर एक दाना (गुदा) सा हैं।
    सर अब बताईये की मैं क्या करूँ?? इसका क्या इलाज हैं??
    सर कोई अच्छा दवा बताईये प्लीज़।
    सर इसका इलाज दवा हैं या ऑपरेशन??
    अगर दवा हैं तो कौन सा दवा हैं? और अगर ऑपरेशन करना हैं तो कब , कैसे और कहाँ कराना है?
    प्लीज़ सर जल्दी और जरूर बताईये।
    मैं आपका सदा आभारी रहूँगा।
    धन्यबाद।

    आपका विश्वासी
    प्रशान्त कुमार

    • विकास कुमार सिंह कहते हैं:

      सर मेरा नाम विकाश कुमार है, उम्र​ 30 वर्ष है, एक हफ्ते से मेरे गुदा में खुजली हो रही है टॉयलेट करते समय कोई भी परेशानी नहीं हो रही है लेकिन हर समय खुजली हो रही है मैंने इसके लिए कीड़े की दवाई भी खाई है और मलहम भी लगाया है लेकिन अभी भी ठीक नहीं हो रहा है मुझे इसका इलाज बताएं मैं आपका आभारी रहूंगा.

  6. राजू साहू कहते हैं:

    मेरे गुदा द्वार पर मस्से जैसा कुछ लटका हुआ है, लेटरिन करते वक्त कभी-कभी रेड ब्लड निकलता है. अब क्या करूँ?

  7. विजय कहते हैं:

    सर मुझे शौच की जगह पर सूजन आई है. 4-5 दिनों से उठते-बैठते दर्द हो रहा है. ब्लीडिंग नहीं होती और न ही मस्से हैं. क्या यह पाइल्स है या फिर कोई इन्फेक्शन है?

  8. रोसन कहते हैं:

    मेरे गुदा के पास एक हल्की फुंसी है जो दर्द कर रही है. पता नहीं कि वो क्या है.

  9. विजय कहते हैं:

    मुझे बस सुबह फ्रेश होने के बाद गुदा में बहुत तेज दर्द होता है और बैठा भी नहीं जाता, वो 2-3 घंटे में ठीक हो जाता है. इसका कोई इलाज बताओ.

  10. रितु कहते हैं:

    सर मुझे बालतोड़ तो आता है पर दर्द नहीं होता, मुझे क्या प्रॉब्लम है.

  11. मंजीत कहते हैं:

    सर मुझे गुदा में फोड़ा हुआ है तो क्या यह बवासीर है या सिर्फ फोड़ा है?

  12. अरुन कहते हैं:

    सर मल के साथ ब्लड आता है और खुजली भी होती है.

  13. अरुन कहते हैं:

    मेरे मल के साथ ब्लड आता है और गुदा में खुजली भी होती है क्या करूँ?

  14. अभिषेक कहते हैं:

    सर मेरे गुदा में से कीड़े भी निकलते हैं सफ़ेद कलर के तो मैं क्या करूं.

  15. नीतेश कहते हैं:

    सर मेरे मलद्वार में मस्से हैं वो कैसे ठीक होंगे?

  16. सुनील राणा कहते हैं:

    सरजी मेरे गुदा के पास से पानी निकलता रहता है जो बदबूदार है। मुझे ज्यादा दिक्कत है, वहीँ पर खुजली भी होती है। मैं स्टूडेंट हूँ और 21 साल का हूँ। पहले मुझे बवासीर का मस्सा था जो अब ठीक हो गया है।

  17. विकास कुमार कहते हैं:

    मुझे कभी-कभी लेटरिन में ब्लड आता है और गुदा के एक तरफ रेड हो गया है।

  18. रविन्द्र कुमार कहते हैं:

    सर मै पैखाना करता हूँ तो जैसे ओठ फटता है उशी प्रकार से फटा दिखता है और दर्द भी करता कोई उपाय बताए

  19. रामलाल यादव कहते हैं:

    सर मेरे गुदा द्वार मे खुजली होती है इसका कोई उपाय बताया जाय।

  20. इमरान कहते हैं:

    सर मुझे कोई ज्यादा दिक्कत तो नही पर जब मैं पाखाना करने जाता हूं तो गुच्छा सा निकलता है ये क्या और उसमें माशा सा दो तीन मासा हो गया है और मुझे लगता है मुझे गिला पन सा लगता है सर मुझे कोई ईलाज बताएं सर प्लीज् सर

  21. राजेश कहते हैं:

    सर मेरे गुदा में बहुत खुजली होती रहती है, मुझे यह खुजली पिछले एक महीने से हो रही है.

  22. अजय कहते हैं:

    चिकनगुनिया बीमारी के समय मेरी पोट्टी सुखजाने के कारण मेरी गुदा में हल्की स्क्रेच लग गई और तभी से दर्द रहता है कई दवाई इस्तेमाल की लेकिन आराम नही है

  23. ध्रुव कहते हैं:

    गुदा के अन्दर साइड में मस्से हैं जो सूज गए हैं, इससे कोई दिक्कत तो नहीं हैं? कोई उपाय बताएं.

  24. पंकज कुमार कहते हैं:

    सर तीन दिन से मुझे मल त्यागते वक्त गुदा में तेज दर्द हो रहा है, गैस भी बन रही है. दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा, ये कैसे ठीक होगा.

  25. वीरेंद्र कुमार कहते हैं:

    सर मेरे बाहरी भाग में लेटरिन की जगह कभी-कभी खुजली होती है.

  26. Rutvik कहते हैं:

    सर मुझे latrine जाते वक्त थोड़ा blood निकलता हैं लेकिन दर्द बिलकुल भी नहीं होता तो मुझे कया बिमारी होगी

  27. महिरा खान कहते हैं:

    सर मेरा नाम माहिर है, 2 दिन में एक बार लेटरिन के लिए जाती हूँ और लेटरिन करते समय रोना आता है और लेटरिन की जगह सूज जाती है, इसका क्या कारण है, उम्र 30 साल.

  28. चंदर कहते हैं:

    मलद्वार में बहुत खुजली होती है इसका मतलब क्या है जान सकता हूँ?

  29. रंजन कुमार कहते हैं:

    सर जब मैं पाखाना करता हूँ तो गुदा के रस्ते से एक गुच्छा सा निकलता है. जब उसको छूता हूँ तो दर्द नहीं करता है. वो क्या है सर?

  30. केशव तिवारी कहते हैं:

    सर,
    हमें बवासीर हुआ था, हमने दवा लिया मगर 15 दिन के बाद फिर से वही समस्या. काफी तकलीफ हो रही है और पेट में गैस भी बन रही है हम क्या करें?
    दवा जो हमने लिया था वो होम्योपैथी का था अभी उसका गोली प्रयोग कर रहा हूँ मगर फायदा नहीं हो रहा है.
    हमें ऑफिस का काम करने के कारण एक ही जगह पर ज्यादा समय तक बैठना पढ़ता है.

  31. प्रिया कहते हैं:

    सर मुझे 10 दिन से टॉयलेट होने के बाद जलन होती है तो मुझे क्या हो सकता है?

  32. सुहास कहते हैं:

    कैसे जाने की पाइल्स ही हुआ है

  33. राहुल राय कहते हैं:

    सर मुझे पोट्टी के दौरान ब्लड के साथ मांस भी कट के आता है उपाय बताएं.

  34. रशीद अनवर कहते हैं:

    आपको बवासीर है आप दही और गन्ने का जूस खूब खाएं और पियें, बवासीर ठीक हो जायेगा.

  35. इमरान खान कहते हैं:

    सर मेरा नाम इमरान खान है, मैं जानना चाह हूँ कि piles होने पर चक्कर आते हैं क्या?

  36. नाजिया कहते हैं:

    सर मुझे पोट्टी करते हुए बहुत दर्द होता है और मिर्च भी लगती है, मस्से तो नहीं हैं प्लीज कुछ बताएं.

  37. गौरव कहते हैं:

    सर, आज मैने गाजर का जूस पिया था तो Latring लाल लाल आ रही थी….. तो please सर आप मुझे बताओ की इसकी क्या वजह हो सकती है

  38. आयशा कहते हैं:

    सर मेरे गुदा के पास गोश्त सा निकला हुआ है जो 5 साल से है, इसमें कभी दर्द नहीं हुआ न ब्लड आया, छूने पर भी दर्द नहीं होता. यह क्या है मुझे आप बता सकते हैं.

  39. रोहित कहते हैं:

    सर मुझे ब्लड तो आ रहा है लेकिन दर्द नहीं होता तो इसका इलाज क्या है और मुझे क्या प्रॉब्लम है?

  40. इरफान कहते हैं:

    सर मेरे लेटरिन की जगह की साइज कम हो गई है इससे लेटरिन करने में तकलीफ होती है. प्लीज कुछ बतायो जिससे जगह खुल जाये.

  41. कमल कहते हैं:

    सर मेरे गुदा के आसपास जोर-जोर से खुजली होती है, मैं समझ नहीं पा रहा हूँ मुझे क्या हुआ है?

  42. सुमित कहते हैं:

    सर piles किस उम्र में होता है, मुझे भी इसके लक्षण नजर आ रहे हैं और मेरी उम्र 25 साल है.

    • लेखक कहते हैं:

      Piles की बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है। यह अपने खानपान और जीवनशैली पर निर्भर करता है। इसलिए सबसे पहले डॉक्टर के पास जाकर अपनी जाँच कराएँ और उसके बाद उचित उपचार लेने के साथ-साथ अपने खानपान और जीवनशैली को ठीक करें। ऊपर दिए गए खाद्य पदार्थों को बताये गए अनुसार नियमित सेवन करें।

  43. मयंक अग्रवाल कहते हैं:

    सर मेरी पाचन क्रिया एक साल से ख़राब है, मुझे दूध बिलकुल शूट नहीं करता.

  44. संगीता कुशवाहा कहते हैं:

    मैं 35 साल की हूँ, मुझे बवासीर है. मेरे को कोई नुकीला सा चीज बहुत चुभता है और बहुत ज्यादा दर्द होता है जिससे मैं रात को सो नहीं पाती हूँ.

  45. कुमार कहते हैं:

    सर मैं जब लेटरिन के बाद मल द्वार धोता हूँ तो वहां पर एक दाना सा प्रतीत होता है और दो तीन दिन से उसमें से खून भी निकल रहा है.

  46. रॉकी कहते हैं:

    दो दिन से लेटरिन करते समय ब्लड आ रहा है. क्या मुझे बवासीर है?

  47. Naveen Kumar कहते हैं:

    Sir आज जब मैं letrine को गया तो मेरे गुदा से blood निकला
    क्या आप बताएँगे कि क्या मुझे babasir है
    या और कोई परेशानी है

  48. सद्दाम कहते हैं:

    फेस गोरा करने का तरीका क्या है?

  49. मुन्ना कुमार कहते हैं:

    सर मैं जब तेजी से लैट्रिन करता हूँ तो उसके रास्ते खून आना शुरू हो जाता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Content is Copyrighted