दिल की बीमारी का घरेलू इलाज – Heart Disease Home Remedies in Hindi

दिल की बीमारी, दिल की संरचना और कार्यों को प्रभावित करने वाली समस्यायों के कारण होती हैं। यह ज्यादातर atherosclerosis या धमनियों की दीवारों (arteries walls) में plaque जमा होने के कारण होती हैं जिससे धमनियां सिकुड़ जाती हैं और उनमें रक्त का संचार रुकने लगता है और हार्ट अटैक (दिल का दौरा) पड़ने की सम्भावना बढ़ जाती है।

दिल की बिमारियों में सबसे common बीमारियाँ हैं – कोरोनरी धमनी की बीमारी (coronary artery disease), जन्मजात हृदय रोग (congenital heart disease), अनियमित दिल की धड़कन (arrhythmia), ह्रदय का रुक जाना (heart failure), heart valve problems आदि।

दिल की बीमारी के लक्षण इसके प्रकार पर निर्भर करते हैं। इसके कुछ common लक्षण हैं – साँसों की कमी (shortness of breath), छाती में दर्द (chest pain), दिल की धड़कन का धीमा होना (slow heartbeat), चक्कर आना, थकान महसूस होना और बेहोसी आना

निम्न कारकों के कारण दिल की बीमारी होने और बढ़ने की सम्भावना बढ़ जाती है – उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर), हाई कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह (डायबिटीज), धूम्रपान (smoking), अत्यधिक शराब और कैफीन (caffeine) सेवन, डिप्रेशन, दवाई का दुरूपयोग (drug abuse), अनियमित जीवनशैली, उम्र का बढ़ना और परिवार में हृदय रोग रोग होने का लम्बा इतिहास होना।

दिल की बीमारी होने पर डॉक्टर से उचित जाँच और उपचार कराना जरूरी होता है। साथ ही कुछ घरेलू नुस्खे अपनाकर और अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव लाकर आप अपने हार्ट को healthy रख सकते हैं।

इसमें से कुछ उपचार आपकी मेडिसिन्स के साथ interfere कर सकते हैं और कुछ cases में यह उपयुक्त नहीं हैं, इसलिए इन औषधियों को लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

यहाँ पर दिल की के 10 सबसे कारगर घरेलू उपचार दिए जा रहे हैं

1. लहसुन (Garlic)

कई शोधों में लहसुन को हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल और हृद – धमनी रोग (coronary heart disease) में फायदेमंद पाया गया है। यह धमनियों में atherosclerosis को रोकता है और उन्हें हार्ड नहीं देता। साथ ही लहसुन में antithrombotic और antiplatelet aggregatory effects होते हैं और यह ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है।

  • रोज एक या दो लहसुन की कलियों को कूटकर सेवन करें। यदि आपको इसका स्वाद अच्छा नहीं लगता तो इसे खाने के बाद एक गिलास दूध पियें।
  • या फिर, आप लहसुन के सप्लीमेंट (मेडिसिन) का भी सेवन कर सकते हैं। Generally, आप 600 से 1200 mg की टेबलेट्स को दिन में तीन बार सेवन कर सकते हैं।

नोट – लहसुन में blood-thinning properties होती हैं जो कुछ मेडिसिन्स के साथ interfere कर सकती हैं। इसलिए इसकासेवन करने से पहले अपने अपने डॉक्टर से सलाह लें।

2. नागफनी (Hawthorne)

नागफनी हृदय प्रणाली (cardiovascular system) को ठीक रखने के लिए काफी फायदेमंद होती है, इसलिए इसे दिल की बिमारियों को ठीक करने के लिए काफी उपयोगी माना जाता है। यह ह्रदय में रक्त के संचार को बढ़ाती है और cardiac muscle contractions को ठीक करती है जिससे ह्रदय की पम्पिंग प्रक्रिया मजबूत होती है।

यह दिल के performance और output को भी बढ़ाती है और उसके workload को कम करती है। साथ ही, इसके anti-arrhythmic effect होते हैं जो दिल कि धड़कन को नियमित बनाये रखने में मदद करते हैं।

आप नागफनी के सप्लीमेंट्स ले सकते हैं। इसके जनरल डोज हैं 300 से 600 mg टेबलेट्स रोज तीन बार। इसका सेवन कुछ हफ्तों या महीनों के लिए रोज करें।

नोट – चूंकि यह औषधि उपयोग करने के लिए सुरक्षित है, लेकिन फिर भी इसका या अन्य किसी औषधि का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

3. अर्जुन के पेड़ कि छाल

अर्जुन के पेड़ की छाल दिल की बीमारी के लिए काफी फायदेमंद औषधि है। इसे प्राकृतिक कार्डियो-टॉनिक और cardiac restorative माना जाता है। यह हर्ब cardiac muscle को मजबूत करती है, arterial congestion को कम करती है और ब्लड प्रेशर को कम करती है।

भारत में कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज में हुई एक रिसर्च में यह पाया गया कि अर्जुन के पेड़ की छाल angina attack को 30% तक कम करने में मदद करती है। साथ ही, इस औषधि का ज्यादा इस्तेमाल और अधिक समय तक इस्तेमाल करने से कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होते।

  • एक गिलास गर्म दूध में डेढ़ चम्मच अर्जुन के पेड़ की छाल का पाउडर और थोड़ा सा शहद मिलाकर सेवन करें। इसका सेवन लगातार कुछ महीनों के लिए रोज दिन में तीन बार सेवन करें।
  • या फिर, आप इसके सप्लीमेंट भी ले सकते हैं। हर 8 घंटे में एक 500 mg टेबलेट का सेवन करें। इसका सेवन लगातार तीन महीने के लिए करें।

4. गुडहल (Hibiscus)

ताइवान में शोधकर्ताओं ने पाया कि गुडहल के फूल में एंटी-एथोरोसलेरोसिस गतिविधि (anti-atherosclerosis activity) होती है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं जो लो-डेंसिटी लिपोप्रोटीन (LDL) या bad cholesterol के oxidation को रोकने में मदद करती हैं, जिससे atherosclerosis और दिल की बिमारियों में लाभ मिलता है।

  • एक कप पानी में दो गुडहल के फूल की पत्तियों को उबालें।
  • अब इसे छानकर एक चम्मच शहद मिला दें।
  • कुछ हफ़्तों के लिए इसका रोज एक बार सेवन करें।

5. हल्दी (Turmeric)

शोधों से पता चला है कि हल्दी भी atherosclerosis को रोकने में मदद करती है। इसमें curcumin नामक एक्टिव घटक पाए जाते हैं जो कोलेस्ट्रॉल ऑक्सीकरण, plaque buildup और clot formation को रोककर दिल को स्वस्थ बनाये रखने में मदद करते हैं।

साथ ही, यह LDL को कम करने में मदद करती है और एंटी-इन्फ्लेमेटरी लाभ प्रदान करती है। एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट होने के कारण यह फ्री रेडिकल्स को बेअसर करने में भी मदद करती है। शरीर में फ्री रेडिकल्स उम्र बढ़ाते हैं और कुछ कुछ क्रोनिक डिजीज होने का कारण बनते हैं।

  • अपने भोजन में हल्दी का नियमित उपयोग करें।
  • आप एक गिलास दूध में एक चम्मच हल्दी को उबालकर भी सेवन कर सकते हैं। इसका सेवन रोज एक या दो बार करें।
  • हल्दी के सप्लीमेंट भी उपलब्ध होते हैं। इसका जनरल डोज है 400 से 600 mg standardized curcumin powder supplement का रोज तीन बार सेवन। आपके लिए इसका उचित डोज जानने के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

6. लाल मिर्च (Cayenne)

लाल मिर्च में capsaicin नामक कंपाउंड होता है जो हार्ट और सर्कुलेटरी प्रॉब्लम्स का उपचार करने में फायदेमंद होता है। यह अनीयामित दिल की धड़कन (irregular heart rhythms) होने की सम्भावना को भी रोकता है और कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है। इसमें फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो रक्त को शुद्ध करते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।

  • एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच लाल मिर्च मिलाएं। अब इसे अच्छे से घोलकर सेवन करें। इसका सेवन दिन में दो-तीन बार करें। यदि मिर्च से जलन हो तो इसके बाद एक-दो चम्मच शहद का सेवन करें।
  • या फिर, आप लाल मिर्च के कैप्सूल का सेवन भी कर सकते हैं। आपके के लिए उचित डोज जानने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

7. अल्फला (रिजका)

अल्फला कोलेस्ट्रॉल लेवल और plaque buildup को रोक के दिल की बीमारी होने की सम्भावना को कम करता है।

  • रोज दिन में दो-तीन बार अल्फला की चाय या जूस का सेवन करें।
  • आप अल्फला की पत्तियों के सप्लीमेंट भी ले सकते हैं। इसके उचित डोज के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

8. मेंथी (Fenugreek)

मेंथी के एंटीऑक्सीडेंट और कार्डियो-प्रोटेक्टिव (cardio-protective) लाभ होते हैं। यह blood lipid levels को ठीक करती है इसलिए यह दिल की बीमारी की सम्भावना को कम करने में काफी फायदेमंद होती है।

यह प्लेटलेट जमा होने से रोकती है जिससे रक्त वाहिकाओं में ब्लड क्लॉटिंग कम होती है और हार्ट अटैक होने की सम्भावना कम हो जाती है। साथ ही, यह कोलेस्ट्रॉल, ब्लड शुगर और अतिरिक्त फैट को कम करने में भी मदद करती है।

  • रात को एक चम्मच मेंथी के बीजों को पानी में डुबोकर रख दें।
  • अगली सुबह, इन बीजों को खली पेट सेवन करें।
  • कुछ महीनों के लिए इसे रोज करें।

9. ग्रीन टी

ग्रीन टी में पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो हार्ट और ब्लड वेसल्स की इनर लाइन के सेल्स की हेल्थ को बढ़ाते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड लेवल को भी कम करने में मदद करती है। साथ ही, ग्रीन टी ब्लड शुगर को कण्ट्रोल करने में मदद करती है और मेटाबोलिज्म को बढ़ाती है।

  • रोज तीन-चार कप कैफीन-फ्री ग्रीन टी का सेवन करें।
  • या फिर, आप 100 से 750 mg के standardized ग्रीन टी के extract का भी सेवन कर सकते हैं।

10. व्यायाम और स्वस्थ भोजन (Exercise and Healthy Diet)

नियमित एक्सरसाइज, हेल्थी डाइट और हेल्थी लाइफस्टाइल अपनाने से ह्रदय स्वस्थ रहता है और दिल की बीमारी होने की सम्भावना कम होती है। Aerobic एक्सरसाइज जैसे चलना (walking), जॉगिंग, साइकिल चलाना, रस्सी कूदना आदि हृदय प्रणाली (cardiovascular system) के लिए ज्यादा फायदेमंद होती हैं। यह रक्त संचार को ठीक रखती हैं और ब्लड प्रेशर को कम करती हैं।

साथ ही, एक्सरसाइज शरीर के वजन को कण्ट्रोल में रखती हैं और तनाव को कम करती हैं जिससे दिल के साथ-साथ अन्य बीमारियाँ भी नहीं होती। फिजिकल एक्सरसाइज के साथ-साथ योग और deep breathing करने से भी लाभ होता है।

अतिरिक्त टिप्स

  • अपने भोजन में फैट, कोलेस्ट्रॉल और नमक को कम करें।
  • अपने भोजन में सैचुरेटेड (saturated) फैट्स की जगह पॉलीअनसेचुरेटेड (polyunsaturated) और मोनोअनसेचुरेटेड (monounsaturated) फैट्स का इस्तेमाल करें। जैसे मक्खन की जगह जैतून के तेल का इस्तेमाल करें।
  • धूम्रपान और अत्यधिक शराब का सेवन न करें।
  • तनाव को कम करें और नियमित योग और ध्यान करें।
  • डायबिटीज को कण्ट्रोल में रखें।
  • डॉक्टर की सलाह लेकर ओमेगा-3, coenzyme Q-10, विटामिन डी और L-carnitine के सप्लीमेंट्स लें।
  • पूरी नींद लें
  • डॉक्टर से नियमित रूप से अपने हार्ट की जाँच कराते रहें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Content is Copyrighted