मधुमेह के लक्षण और घरेलू इलाज – Diabetes Treatment in Hindi

मधुमेह (डायबिटीज) को diabetes mellitus भी कहा जाता है। आजकल की जीवन शैली में यह बीमारी काफी आम हो गई और किसी को भी हो सकती है।

मधुमेह मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है – type 1 diabetes जिसमें हमारा शरीर insulin produce नहीं करता और type 2 diabetes जिसमे हमारा शरीर insulin produce तो करता है लेकिन वह काफी नहीं होता या वह ठीक से अपना काम नहीं करता।

मधुमेह के सबसे आम लक्षण हैं – थकान होना, वजन कम होना (हालाँकि कि आप खूब खाते हों), अत्यधिक प्यास लगना, बार-बार और अधिक पेशाब लगना, आंखों की रोशनी का धुंधला होना और किसी चोट का जल्दी न भरना।

चूँकि मधुमेह का कोई permanent इलाज नहीं है लेकिन आप अपने blood के sugar level को control करके एक normal life जी सकते हैं। ऐसे कई प्राकृतिक घरेलू उपचार हैं जिनको अपनाकर आप अपने sugar level को control कर सकते हैं।

यहाँ पर diabetes को control करने के 10 सबसे best घरेलू उपचार दिए जा रहे हैं। लेकिन फिर भी diabetes के proper diagnosis और treatment के लिए अपने doctor से consult जरुर करें।

1. करेला (Bitter Gourd)

करेला मधुमेह को control करने में काफी उपयुक्त साबित हो सकता है क्योंकि इसमें blood glucose को कम करने का गुण होता है। यह हमारे पूरे शरीर के glucose metabolism को प्रभावित करता है।

यह pancreatic insulin secretion को बढ़ाने में मदद करता है और insulin resistance को कम करता है। इसलिए करेला दोनों ही प्रकार की diabetes (type 1 और type 2) में फायदेमंद होता है।

  • हर रोज सुबह खाली पेट एक गिलास करेले का juice पियें। इसे प्रक्रिया को रोज सुबह लगातार 2 महीने तक अपनाएं।
  • इसके साथ ही आप अपने भोजन में भी करेले की सब्जी को शामिल कर सकते हैं।

2. दालचीनी (Cinnamon)

दालचीनी के पाउडर में insulin activity को stimulate करने की शक्ति होती है, जिससे sugar level कम होता है। इसमें bioactive components होते हैं जो मधुमेह को रोकते हैं और उससे लड़ते हैं।

कुछ शोधों से यह साबित हुआ है कि uncontrolled type-2 diabetes को control करने के लिए दालचीनी काफी effective option होता है।

लेकिन दालचीनी का अत्यधिक सेवन न करें क्योंकि इसमें coumarin नामक toxic component होता है जो liver को damage कर सकता है।

  • आधा चम्मच दालचीनी पाउडर को 1 कप पानी में घोलकर रोज पियें।
  • दालचीनी की लकड़ी के 3-4 टुकड़ों को 1 कप पानी में 20 मिनट तक उबालकर इसका सेवन करें।
  • आप दालचीनी के पाउडर को अपने खाने में भी डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

3. मेथी (Fenugreek)

मेथी में hypoglycemic नामक गुण होता है जो मधुमेह को control करता है, glucose tolerance को बढ़ाता है और blood sugar level को कम करता है। यह glucose-dependent insulin के स्त्राव को भी बढ़ावा देता है। मेथी में फाइबर प्रभुर मात्रा में होता है जो carbohydrate और sugar के absorption को कम करता है।

  • रात में 2 चम्मच मेथी के बीजों को भिगोकर रख दें। सुबह उठकर खाली पेट इस पानी को बीजों के साथ पी लें। glucose level को कर्म करने के लिए इस उपचार को लगातार 2 महीने तक करें।
  • रोज 2 चम्मच मेथी के बीजों के पाउडर को दूध में घोलकर पियें।

4. आमला

आमला में भरपूर मात्रा में vitamin c होता है और यह pancreas की functioning को ठीक करता है।

  • 2 या 3 आमला लें। उनमें से बीज निकलकर अलग कर दें और बचे आमला को पीस लें। पीसने के बाद इसे कपड़े से निचोड़कर juice निकाल लें। इस juice की 2 चम्मच को 1 कप पानी में घोलकर रोज खाली पेट पियें।
  • आप इस juice को करेले के juice के साथ मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं।

5. जामुन

जामुन में anthocyanins, ellagic acid और hydrolysable tannins नामक पदार्थ होते हैं जो blood के sugar level को control करके मधुमेह पर काबू पाते हैं।

मधुमेह के मरीज के लिए जामुन के पत्ते, जड़, बीज, फल सभी फायदेमंद होते हैं। शोध के द्वारा यह पता चला है कि जामुन के फलों और बीजों में hypoglycemic effects होता है जो blood और urine के sugar level को बहुत तेजी से कम करता है।

जब जामुन बाजार में उपलब्ध हों तो इन्हें अपने भोजन में जरुर शामिल करें। आप जामुन के बीजों का पाउडर बनाकर भी दिन में 2 बार पानी के साथ सेवन कर सकते हैं।

6. आम के पत्ते

नाजुक और कोमल आम की पत्तियां मधुमेह को काबू में करने के लिए उपयोगी साबित हो सकती हैं। यह insulin level को regulate करती हैं और blood lipid profiles को improve करती हैं।

  • रात में 10 से 15 कोमल आम की पत्तियों को पानी में भिगोकर रख दें। सुबह खाली पेट इस पानी को छानकर पी लें।
  • आम की पत्तियों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें। इस पाउडर को आधा चम्मच सुबह-शाम रोज पानी के साथ सेवन करें।

7. करी के पत्ते

करी के पत्तों में भी anti-diabetic properties होती हैं। ऐसा माना जाता है कि करी के पत्तों में ऐसा पदार्थ पाया जाता है जो starch से glucose बनने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। यह high cholesterol level और मोटापा (obesity) को भी कम करता है।

इसलिए आप रोज सुबह 10 करी के पत्तों को चबाकर खाएं। अच्छे results पाने के लिए इस प्रक्रिया को प्रतिदिन लगातार 4 महीनों तक अपनाएं।

8. एलोवेरा

एलोवेरा fasting blood sugar level को कम करने में मदद करता है। इसमें पाए जाने वाले phytosterols, type-2 diabetes पर antihyperglycemic effect करते हैं।

एलोवेरा जेल को bay leaves (तेजपत्ता) और हल्दी के साथ सेवन करने से मधुमेह को कम करने में काफी मदद मिलती है। इस हर्बल medicine को बनाने के लिए नीचे दी गई steps अपनाएं –

  • 1 चम्मच एलोवेरा gel में आधा-आधा चम्मच तेजपत्ता पाउडर और हल्दी मिला लें। अब इसे अच्छी तरह से मिक्स कर लें।
  • इस मिश्रण को रोज दिन में 2 बार सेवन करें।

9. अमरुद (Guava)

अमरुद में अत्यधिक vitamin C और fiber पाया जाता है जो blood sugar को कम करता है। अच्छा result पाने के लिए अमरुद के ऊपरी कवर को छीलकर कर अलग कर दें और फिर सेवन करें।

लेकिन अमरुद का अत्यधिक सेवन न करें।

10. भिन्डी

भिन्डी में polyphenolic molecules होते हैं जो blood glucose level को कम करके diabetes को control करते हैं। 2011 में हुई एक research के अनुसार भिन्डी के बीजों और छिलकों में antidiabetic और antihyperlipidemic potential होता है।

  • भिन्डी को टुकडो में काट लें और पानी में भिगोकर रातभर के लिए रख दें। सुबह इसे छानकर भिन्डी को अलग कर दें और पानी को पी लें। यह कुछ हफ्तों तक रोज करें।
  • भिन्डी को अपने भोजन में भी शामिल करें।

Extra Tips

  • अपने ब्लड शुगर लेवल को मॉनिटर करते रहें।
  • हेल्थी डाइट प्लान को अपनाएं और नियमित exercise करें।
  • अपने भोजन में fiber युक्त पदार्थों का खूब सेवन करें।
  • रोज कुछ समय के लिए धूप में खड़े होने से भी diabetes control होती है क्योंकि इससे vitamin D produce होता है जो insulin production के लिए जरुरी होता है।
  • खूब पानी पियें।
  • Deep breathing करें, meditation करेंऔर तनाव मुक्त रहें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Content is Copyrighted