अदरक खाने के 10 फायदे – Ginger Health Benefits in Hindi

अदरक एक प्राकृतिक औषधि है जिसको पूरी दुनिया में खाने में इस्तेमाल किया जाता है। कई शोधों से यह साबित हुआ है कि अदरक शरीर के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है और कई बीमारियों को ठीक करने में मदद करता है।

अदरक में जी मचलना रोकने वाली (anti-nausea), अकड़न रोकने वाली (anti-spasmodic), एंटीफंगल, एंटीसेप्टिक (सड़न रोकनेवाली), एंटीबैक्टीरियल (जीवाणुरोधी), एंटीवायरल और कासरोधक (खांसी रोकने वाली) प्रॉपर्टीज होती हैं।

साथी ही अदरक में विटामिन A, C, E और B-कोम्प्लेस, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम, सिलिकॉन, सोडियम, आयरन, जिंक, कैल्शियम और बीटा-कैरोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

अदरक को आप ताजा, सूखा हुआ, पाउडर के रूप में या तेल के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते है।

यहां पर अदरक के टॉप 10 फायदे दिए जा रहे हैं –

1. पाचन सम्बन्धी परेशानियों को दूर करता है

अदरक में वायुनाशी (carminative) गुण होते हैं जो पेट की खराबी, कब्ज और एसिडिटी को ठीक करने में मदद करते हैं। साथ ही, यह पेट और आंतों की मांसपेशियों को आराम प्रदान करता है जिससे गैस और पेट फूलने की समस्या ठीक होती है।

हेल्थ एक्सपर्ट्स का तो यह भी कहना है कि अदरक कई पेट की बीमारियों जैसे अपच (dyspepsia) और पेट दर्द आदि को ठीक करने में काफी मददगार होता है। साथ ही, यह पेट में बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण होने वाली समस्यायों जैसे दस्त (डायरिया) आदि को भी ठीक करता है।

अपना पाचन ठीक रखने के लिए खाने के बाद थोड़े से अदरक का सेवन करें। फूड पाइज़निंग होने पर भी अदरक का सेवन करने से लाभ होता है।

2. सर्दी, जुकाम और फ्लू को रोकता है

अदरक शरीर की रोग प्ररोधक क्षमता को बढ़ाता है जिससे सर्दी जुकाम, खांसी, गले में खराश, फ्लू आदि होने की सम्भावना काफी कम हो जाती है। साथ ही, अदरक में एंटीवायरल, एंटीटॉक्सिक और एंटीफंगल प्रॉपर्टीज भरपूर पाई जाती हैं। यह शरीर की गर्मी बाहर निकालने की और पसीना आने की प्रक्रिया को तेज करके छोटे-छोटे बुखार से भी बचाता है।

नियमित रूप से अदरक का सेवन करते रहें। यह शरीर को प्राकृतिक तरीके से detoxify करने में मदद करेगा, जिससे आपको किसी भी बीमारी में जल्दी ठीक होने में मदद मिलेगी।

3. मोर्निंग सिकनेस को ठीक करता है

गर्भवती महिलायें, जो अधिकतर मोर्निंग सिकनेस का शिकार होती हैं, वो अदरक के जरिये इस समस्या से छुटकारा पा सकती हैं। मोर्निंग सिकनेस के इलाज में अदरक विटामिन B6 की तरह काम करता है। विटामिन B6 को प्रेगनेंसी के कारण होने वाली मोर्निंग सिकनेस और जी मचलने की समस्या में काफी फायदेमंद माना जाता है।

जब आपको मोर्निंग सिकनेस, मोशन सिकनेस या जी मचलने की समस्या हो तो एक अदरक के टुकड़े को चबाकर खाएं। यदि आपको इसका स्वाद पसंद नहीं है तो इसके सप्लीमेंट्स लें।

4. गठिया दर्द को कम करने में मदद करता है

अदरक में स्ट्रोंग एंटी-इन्फ्लामेट्री प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं जो गठिया या ऑस्टियोआर्थराइटिस के कारण होने वाले जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद करती हैं।

दर्द को ठीक करने के लिए जोड़ों पर गर्म अदरक के पेस्ट को हल्दी के साथ लगायें। ऐसा दिन में दो बार करें। साथ ही, अपने भोजन में भी कच्चे या पके अदरक को शामिल करें।

5. कैंसर से बचाता है (Prevents Cancer)

अंडाशयी कैंसर (ovarian cancer) हो या पेट का कैंसर, अदरक सभी में लाभदायक होता है। 2007 में BMC Complementary and Alternative Medicine ने अपनी रिसर्च के जरिये यह पाया कि अदरक का पाउडर अंडाशयी कैंसर सेल्स की डेथ रेट को बढ़ाता है।

University of Minnesota में हुई एक और स्टडी के अनुसार अदरक कोलोरेक्टल कैंसर सेल्स की ग्रोथ को कम करता है जिससे पेट के कैंसर को रोकने में काफी हद तक सहायता मिलती है। अदरक में अन्य प्रकार के कैंसर सेल्स जैसे फेफड़े, ब्रैस्ट, स्किन प्रोस्टेट और अग्नाशय के साथ लड़ने की काबिलियत भी होती है।

6. मासिक धर्म में दर्द कम करता है (Reduces Menstrual Pain)

अदरक में एंटी-इन्फ्लामेट्री प्रॉपर्टीज होती हैं और यह एक प्राकृतिक दर्द निवारक होता है, इसलिए इसको मासिक धर्म के दर्द को कम करने में उपयोग किया जा सकता है।

जिन महिलायों को मासिक धर्म के दौरान दर्द होता है, वो आराम पाने के लिए अदरक के पाउडर या अदरक के कैप्सूल का सेवन करें। आप अदरक की चाय का सेवन भी कर सकती हैं। इससे दर्द में तुरंत राहत मिलेगी और मासिक धर्म की शुरुआत में होने वाली मांसपेशियों की ऐंठन में आराम मिलेगा।

7. माइग्रेन का इलाज करता है (Treats Migraines)

शोधों से यह पता चला है कि अदरक रक्त वाहिकाओं में prostaglandins के द्वारा होने वाले दर्द और इन्फ्लामेशन को रोकने में मदद करता है। इसलिए इसे माइग्रेन के इलाज में लाभकारी माना जाता है।

माइग्रेन अटैक के दौरान एक कप अदरक की चाय का सेवन करें। इससे असहनीय दर्द, चक्कर आना और जी मचलना ठीक होगा।

8. खांसी ठीक करता है

अदरक एक प्राकृतिक एनाल्जेसिक (natural analgesic) और पेनकिलर (painkiller), इसलिए यह खांसी के कारण होने वाली गले की खराश और जलन को ठीक करने में मददगार होता है। खासतौर से जब यह सर्दी-जुकाम के कारण हुआ हो। अदरक फेफड़ों से बलगम (mucus) में मदद करता है, फेफड़ों में बलगम जमने के कारण ही खांसी होती है।

जब भी आपको खांसी हो तो अदरक के टुकड़ों को चबाकर खाएं या इसके जूस का सेवन करें। आप अदरक के तेल से अपनी छाती और पीठ की मालिश भी कर सकते हैं, ऐसा करने से खांसी और जल्दी ठीक होगी।

9. ह्रदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है (Promotes Heart Health)

अदरक का नियमित सेवन करने से ह्रदय स्वस्थ रहता है। यह कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है, रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) को ठीक करता है और रक्त को जमने से रोकता है। इसलिए अदरक कई गंभीर हार्ट की बीमारियों के होने की सम्भावना को कम करता है।

अदरक में अत्यधिक मात्रा में पोटैशियम होता है जो हार्ट की हेल्थ को प्रमोट करता है। साथ ही, इसमें मैग्नीशियम होता है जो ह्रदय, रक्त वाहिकाओं (ब्लड वेसल्स) और मूत्र मार्ग (यूरिनरी पैसेज) को प्रोटेक्ट करने में मदद करता है।

इसलिए अपने हृदय स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए नियमित रूप से अदरक का सेवन करें।

10. मधुमेह को नियंत्रित करता है (Controls Diabetes)

अदरक ब्लड के शुगर लेवल को कम करने में मदद करता है। साथ ही, यह इन्सुलिन और अन्य डायबिटीज की मेडिसिन्स के प्रभाव को बढ़ाता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए रोज सुबह एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच अदरक का जूस मिलाकर सेवन करना चाहिए।

डायबिटीज के कारण शरीर में होने वाले कई दुष्प्रभावों और हेल्थ प्रॉब्लम्स को भी अदरक ठीक करता है। उदहारण के तौर पर अदरक का नियमित सेवन करते रहने से पेशाब के जरिये प्रोटीन की बर्बादी कम होती है और अत्यधिक पानी पीने और बार-बार पेशाब जाने की आदत भी कंट्रोल होती है। अदरक डायबिटीज के कारण नर्व्स को डैमेज होने से रोकता है और ब्लड में फैट के लेवल को कम करता है।

नोट – यदि आप हार्ट या हाई ब्लड शुगर की मेडिसिन्स का सेवन करते हैं तो अदरक का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.