डिप्रेशन दूर करने के 10 उपाय – Depression Home Treatment in Hindi

डिप्रेशन (stress) एक बहुत ही आम समस्या है। अज के युग ने हमें ऐसी कई सारी चीजें दी हैं जिससे हमारी life काफी easy हो गई है लेकिन हमें कई सारी बीमारियाँ भी दी हैं, उन्ही दिमागी बिमारियों में से एक है डिप्रेशन।

डिप्रेशन का level हर व्यक्ति में अलग-अलग होता है। काम में रूचि रखने रखने के लिए थोडा सा stress होना तो जरुरी होता है लेकिन जब यह हमारे ऊपर हावी होने लगता है तब यह हमारी physical और mental health पर बुरा असर करने लगता है। इसलिए अत्यधिक stress से दूर रहना जरुरी होता है, आइये जानते हैं इसे दूर करने के प्राकृतिक उपाय –

  • आपको जिस काम में रूचि हो उसी काम को करें।
  • डिप्रेशन दूर करने का सबसे कारगर तरीका होता है नियमित ध्यान (मैडिटेशन) और योग करना। रोज सुबह जल्दी उठकर fresh air में टहलें और फिर योग और व्यायाम करें।
  • Positive Thinking – यदि आप सकारात्मक सोच रखते हैं तो आपको कभी भी डिप्रेशन नहीं होगा। आपके जीवन में कोई भी कठिन परिस्थिति आये तो उससे सकारात्मक सोच के साथ लड़ें।
  • Practical Attitude – जब कोई बात या काम हमारी पहुँच से दूर हो जाता है तब हमें डिप्रेशन होने लगता है। इसलिए यदि आप किसी काम को नहीं कर पा रहें हैं तो stress न लें और सकारात्मक रहें। इसका सबसे आसान तरीका होता है अपनाप को व्यस्त रखना और उन बातों को न सोचना जिनसे आपको डिप्रेशन हो रहा हो।
  • शराब और धूम्रपान से दूर रहें – नशीले पदार्थों के सेवन से हमारे शरीर में happy hormone निकलता है जो कुछ समय के लिए हमारे डिप्रेशन को दूर कर सकता है। लेकिन इसके कारण हमारे शरीर में natural रूप से happy hormone निकलना कम हो जाता है और हमें नशे की लत लग जाती है। यदि नशे की लत हावी हो जाये तो इससे हमारे स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर होता है। इसके आलावा शराब और धूम्रपान से cancer जैसे गंभीर रोग होने की सम्भावना भी काफी ज्यादा होती है
  • अपनी feelings को व्यक्त करें – जब हम अपने अन्दर के दर्द को दूसरों के सामने व्यक्त करते हैं तो हमारा मन काफी हल्का महसूस करता है और डिप्रेशन काफी हद तक कम हो जाता है। वहीं दूसरी ओर दिल की बात दिल में ही रखने से परिस्थिति और ज्यादा बिगड़ जाती है।
  • Healthy Foods का सेवन – Unhealthy food भी डिप्रेशन के मुख्या कारणों में से एक है, इसलिए अपने भोजन पर मुख्य रूप से ध्यान दें। फलों और सब्जियों का सेवन अधिक करें।

खुद को happy रखने और थोड़े में ही satisfied रहने की कोशिश करें। stress को अपनी life में importance न दें।

डिप्रेशन के दौरान हमारे शरीर में होने वाले changes

हम किसी भी परिस्थिति में कैसी प्रतिक्रिया करते हैं यह भी डिप्रेशन का एक प्रकार होता है। किसी भी चुनौती में हमारा response physiological होता है लेकिन इसका हमारी physical health पर भी असर होता है। जब हम कोई challenge face करते हैं तो हमारा शरीर हमारे शरीर की रक्षा के लिए संसाधनों को सक्रिय करता है, जिससे हमें उस परिस्थिति से लड़ने की शक्ति मिलती है।

जब हमें तनाव होता है तो हमारा शरीर cortisol, adrenaline और noradrenaline नामक chemicals को काफी ज्यादा मात्रा में produce करता है। यह chemicals हमारा heart rate बढ़ा देते हैं, हमारी muscles को लड़ने के लिए prepare करते हैं, हमारा दिमाग अचानक ही काफी alert हो जाता है और हमें पसीना आने लगता है। यह सब तनाव की challenging situation में हमारा शरीर हमारी रक्षा के लिए करता है।

डिप्रेशन खत्म करने के 10 कारगर घरेलू उपाय

1. धीमी और गहरी सांस लें

एक आरामदायक जगह पर बैठकर धीमी और गहरी सांस लेना हमारे डिप्रेशन को बहुत हद तक कम कर सकता है। Deep breathing से हमारे शरीर को पर्याप्त मात्रा में oxygen मिलती है जो हमारे दिमाग और body को calm down करने में help करती है। यदि आप रोज 20 से 30 तक रोज deep breathing करें तो आपको कभी stress नहीं होगा। यह हमारे सोचने की शक्ति को भी बढ़ाती है जिससे हमें डिप्रेशन से लड़ने में और ज्यादा मदद मिलती है।

  • जब भी आप डिप्रेशन में हों तो किसी comfortable जगह पर बैठ जाएं या लेट जाएं।
  • अपनी आंखें बंद कर लें और अपनी नाक से 5 लम्बी-लम्बी सांसे लें।
  • हर एक सांस को कुछ देर के लिए अन्दर ही hold करें और फिर पूरी सांस बाहर निकालें।

2. सेंधा नमक

सेंधा नमक stress की एक बहुत ही कारगर remedy है। डिप्रेशन के कारन हमारे शरीर में magnesium level काफी कम हो जाता है और adrenaline बढ़ जाता है। सेंधा नमक में भरपूर मात्रा में magnesium होता है जो mood elevating serotonin chemical को दिमाग में बढ़ाता है। इससे डिप्रेशन कम होता है और शरीर relax होता है। साथ ही इससे चिंता (anxiety), चिडचिडापन, नींद न आना और abnormal heart rate जैसी समस्याएं भी खत्म होती हैं।

  • गर्म पानी के एक टब में 1 cup सेंधा नमक डाल लें।
  • अब इसे पानी में अच्छी तरह से घोल लें।
  • अब इस पानी में 20 मिनट के लिए बैठ जाएं।
  • तनाव मुक्त रहने के लिए इस उपाय को हफ्ते में 2 से 3 बार करें।

3. Chamomile Tea

Chamomile तनाव दूर करने वाला काफी effective herb है। इसका शांति और सुख देने वाला गुण हमारे central nervous system पर काफी अच्छा प्रभाव डालता है। यह हमारी मांसपेशियों को आराम देती है, चिंता कम करती है और नींद को बढ़ाती है।

  • तनाव से लड़ने के लिए आप दिन में 3 से 4 cup chamomile tea ले सकते हैं। इसे बनाने के लिए 2 चम्मच chamomile के पाउडर को 1 cup गर्म पानी में डालें। इसे अच्छी तरह से घोलने के बाद स्वादानुसार शहद मिलाएं।
  • आप chamomile oil की bath भी ले सकते हैं।
  • आप chamomile herb को सीधे खा भी सकते हैं। इसके उचित dosage के लिए अपने doctor से consult करें।

4. मसाज

Body massage भी डिप्रेशन कम करने में काफी मदद करती है। हाथ, पैर, पीठ और सिर की warm massage मांसपेशियों को relax करती है और blood circulation को improve करती है।

Massage के लिए आप तिल या नारियल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • सबसे पहले तिल या नारियल के तेल को हल्का गर्म कर लें।
  • अब इस तेल से अपने सिर, पैरो के तलवे, हाथ या पीठ की massage करवाएं।
  • Massage के बाद गर्म पानी से नहायें।
  • ऐसा नियमित करने से आपको कभी stress नहीं होगा।

5. अस्वगंधा

अस्वगंधा भी तनाव से लड़ने के लिए काफी कारगर herb है। 2012 में भारत में हुए एक शोध के अनुसार अस्वगंधा की जड़ cortisol stress hormone को कम करने में काफी मदद करती है। इससे हमारे शरीर की डिप्रेशन से लड़ने की शक्ति भी बढ़ती है।

इसके साथ ही अस्वगंधा nervous system को मजबूत करता है, उर्जा बढ़ाता है, थकान दूर करता है और नींद की quality को बढ़ाता है।

अस्वगंधा की सूखी जड़ें बाजार में काफी आसानी से मिल जाता है। इन जड़ों की 1 से 2 gm मात्रा को 1 cup दूध में गर्म करके दिन में 3 बार सेवन करें।

Note – गर्भवती औरतें और छोटे बच्चे अस्वगंधा का सेवन न करें।

6. तुलसी

तुलसी भी तनाव दूर करने वाली एक कारगर औषधि है। तुलसी एक adaptogenic herb है जो physical और emotional stress से लड़ने में शरीर की काफी मदद करती है।

2006 में पब्लिश हुई एक research के अनुसार तुलसी स्थाई रूप से रहने वाले डिप्रेशन से शरीर को protect करती है।
तुलसी की पत्तियों के रस को चाय में डालकर नियमित सेवन किया जा सकता है।
दिन में 2 बार तुलसी की 10-12 पत्तियों को चबाकर खाएं।

7. Green Tea

आप एक कप green tea का सेवन करके भी तनाव से मुक्त हो सकते हैं। Green tea में L-Theanine नामक amino acid होता है जो alpha brain waves के production को बढ़ाता है। इसके फलस्वरूप stress कम होता है, शरीर relax होता है और mental alertness बढ़ती है।

इसके आलावा यह amino acid शरीर में gamma-aminobutyric acid (GABA) के production को बढ़ाता है जो कि एक neurotransmitter होता है और relaxation को promote करता है।

  • Green tea की पत्तियों की 2 चम्मच को 1 कप गर्म पानी में डालें।
  • अब इसे ठक कर 5 मिनट के लिए रख दें।
  • अब इसमें स्वादानुसार निम्बू का रस और शहद डाल दें। आपकी green tea तैयार है।
  • आप इस tea को दिन में 2 से 3 cup लेकर आपका stress कम कर सकते हैं।

8. Passionflower

Passionflower भी तनाव दूर करने का एक effective herb है। यह भी brain में GABA level को बढ़ाता है जिससे शरीर relax होता है।

  • Passionflower पाउडर को चाय के रूप में सेवन कर सकते हैं।
  • Passionflower liquid और tablet के रूप में भी बाजार में मिलता है। लेकिन इसके सेवन से पहले हमेशा अपने doctor की सलाह लें क्योंकि इसके other medical effects भी होते हैं।

Note – गर्भवती औरतें और बच्चे इस herb का बिलकुल भी सेवन न करें।

9. व्यायाम

व्यायाम करने से शरीर में stress hormone level कम होता है और feel good बढ़ता है। इसलिए आप जब भी stress में हों तो कोई न कोई व्यायाम जरुर करें जैसे टहलना, डांस, तैराकी या फिर कोई outdoor game खेलना।

डिप्रेशन से लड़ने के लिए आप योग का भी सहारा ले सकते हैं। Meditation करने से दिमाग शांत होता है और तनाव दूर होता है। यह हमारे focus level को भी बढ़ाता है और कोई भी काम करते समय हमें calm रखता है।

10. विटामिन B supplements लें

तनाव को रोकने के लिए और अपने mood को improve करने के लिए B vitamins – B1, B2, B3, B5, B6, B7, B9 और B12 युक्त पदार्थों का खूब सेवन करें। यह vitamins brain और nervous system के कार्य करने की क्षमता को बढ़ाते है और साथ ही थकान को भी दूर करते हैं।

Vitamin B की कमी के कारण ही शरीर में depression और उदासीनता होती है। इसलिए जब भी आप डिप्रेशन में हों तो vitamin B पदार्थों का सेवन करें।

  • Vitamin B युक्त पदार्थ – अनाज, मटर, मूंगफली, पालक, गोभी, शीरा, आलू, केला, फलियां, अंडा और दूध से बने पदार्थ।
  • आप vitamin B के supplements भी ले सकते हैं। आपके शरीर को कौनसे B vitamin की जरुरत है इसके लिए doctor से सलाह लें और उसके अनुसार supplements लें।

65 Responses

  1. मुकेश कहते हैं:

    मेरा नाम मुकेश है मैं पिछले 4 साल डिप्रेशन का शिकार हूँ स्त्री की वजह से, मेरा करियर खराब हो गया है। प्लीज कोई उपाय बताइये।

  2. कविता कहते हैं:

    हेल्लो मैं बहुत ज्यादा परेशान हूँ। एक साल से बहुत टेंशन है, बहुत टूट चुकी हूँ मैं। सुसाइड करने का मन करता है कभी कभी। लेकिन बस माँ पापा का सोच कर रुक जाती हूँ। लेकिन फिर भी सुसाइड का खयाल मन से नहीं जाता। क्या करूँ मैं हद से ज्यादा परेशान हूँ।

  3. कपिल यादव कहते हैं:

    सर मेरा नाम कपिल हैं मुझे हमेशा महसुस होता हैं कि मै मर जाउंगा न भूख का अनुभव होता है ना प्यास का न किसी से बात करने का मन करता है
    हमे क्या करना चाहिए

  4. हरी सिंह कहते हैं:

    मेरा नाम हरी है. मुझे डिप्रेशन है और मुझे लगता है कि मैं कभी भी ठीक नहीं हो सकता. मेरे कानों में कई आवाजें गूंजती हैं. मुझे लगता है कि मेरे को सभी लोग कमजोर समझते हैं. मुझे लोगों से बहुत डर लगता है. हर बार भूलता रहता हूँ. रात को देर तक अनेक प्रकार की बातें दिमाग में घूमती रहती हैं. प्लीज मुझे बताओ मैं क्या करूँ?

  5. ढाल सिंह साहू कहते हैं:

    मैं 37 साल का हूँ डिप्रेशन की वजह से मुझे काफी समय से कब्ज है मुझे रोज बुरे सपने आते है कभी-कभी मेरे शरीर मे ताकत ही नही रहता मैं हमेशा परेशान रहता हूँ।क्या करूँ

  6. rohit कहते हैं:

    Sir mai thik ho gya hu pr need nhi aati frnds.

  7. nitesh agrawal कहते हैं:

    मैं भी 2 साल से डिप्रेशन से गुजर रहा हूँ, मुझे नींद नहीं आती है.

  8. Yogendra कहते हैं:

    sir mera bhai hai jo kaafi ulti sidhi harkatain karta hai pichale karib 25-30 din se uske behaviour me kaafi changes aa rahe hai lakin is time pagalon jaisi harkatain kar raha hai usko hospital le jana muskil ho raha hai please koi fast solution batayai..

  9. ram कहते हैं:

    sir. i am fourty years old man . my height is only 158 cm. so i am dipress all time all work.
    what can i dos

  10. सोना कहते हैं:

    मैं 5 साल से डिप्रेशन में हूँ, मुझे ऐसा लगता है कि मेरे आसपास वाले मुझे करैक्टर लेस समझते हैं. मैं यह सब नहीं सोचना चाहती पर फिर भी यह सब बातें मुझे दिनभर परेशान करती हैं, प्लीज हेल्प मी.

    • कैलाश शर्मा कहते हैं:

      हेल्लो सोना मेरी भी यही प्रॉब्लम है, अगर आपको कोई समाधान मिले तो प्लीज मुझे जरूर बताएं, मेरा किसी काम में बिल्कुल मन नहीं लगता, हर छोटी-छोटी बातों को लेकर बहुत टेंशन होने लगती है, बस अकेला रहना ही पसंद करता हूँ. अब तो खुद से भी डर लगने लगा है, बार-बार मरने के ख्याल आते हैं दिल में, प्लीज हेल्प मी.

  11. राकेश कहते हैं:

    हेल्लो मैं छोटी-छोटी बातों में हाई डिप्रेशन हो जाता हूं और मैं कोई भी कार्य नहीं कर पाता और जिस प्रकार बहुत गहरा तनाव हो जाता है मैं पूर्ण निर्णायक समय पर नहीं पहुंच पाता कि मैं कोई निर्णय नहीं कर पाता आगे क्या करना है क्या नहीं करना

  12. मनीषा कहते हैं:

    मुझे कुछ टाइम से बहुत टेंशन है, मेरे करियर और मेरे प्यार को लेकर. सुबह उठती हूँ तो बहुत उलझन रहती है, देर से सोती हूँ और जल्दी उठ जाती हूँ. रोने का हमेशा मन मन करता है, कभी-कभी मरने का भी.

  13. नीरू गुप्ता कहते हैं:

    में पिछले 5 साल से बहुत डिप्रेस्ड हु। मेरे एक मित्र जो मुझे इस कारण टोकते थे तब मजूझे समझ में आया की ये तो एक बहुत बड़ी बीमारी है। में 24 घंटे तनाव म रहती हूं। पूरा शरीर दर्द करताहै। सिर में बहूत तेज दर्द हमेसा बना रहता है। पेन किलर से भी आराम नही मिलता । हर बात पे रोना आता है। कोई भी काम में मन नही लगता है। हर बात पे म लड़ाई करने को उतर आती हु।चीखती चिल्लाती हु। फिर खुद ही रोने लगे जाती हूं। सभी घर म मुझसे परेशान है। पढ़ाई में मन नही करता न ही कोई भी काम करने म अच्छा फील होता ह। आप मेरी इस समस्या का निदान करे जल्दी से जल्दी।

  14. महेंद्र कहते हैं:

    डिप्रेशन के कारण मेरे सिर में दर्द होता हे ऐसा लगता ह जैसे नस फट जायेगी । इस के लिये कोई उपाय बताए बहुत परेशान हु । मेडिसिन लेता हूं तब तक ठीक रहता है

  15. साहिल कहते हैं:

    मैं 4 महीने से डिप्रेशन में हूँ, मैं इसे दूर नहीं कर पा रहा हूँ, सोच बढ़ती जा रही है, इससे बाहर कैसे आऊँ, सुसाइड करने का मन करता है, कोई मुझे बताये.

  16. विकास शर्मा कहते हैं:

    डिप्रेशन का कोई इलाज नहीं है. मुझे बहुत साल हो चुके हैं डिप्रेशन में रहते हुए. मैं सब कुछ करके देख चूका हूँ. बहुत से साइकेट्रिस्ट को भी एख चूका हूँ. बहुत सारी मेडिसिन्स भी ले चूका हूँ पर इससे भी कुछ फर्क नहीं पड़ा, उल्टा और ज्यादा डिप्रेशन में जा रहा हूँ. सही बात तो यह है कि इसका कोई इलाज नहीं है. जिसको भी यह हो जाये वो सारी जिंदगी डिप्रेशन में रहता है.

  17. Parveen Kumar कहते हैं:

    Hanumaan Chlisa is d best of one

  18. ममता रस्तोगी कहते हैं:

    मैं डिप्रेशन में रहती हूँ, ऐसा लगता है कि मेरा ब्लड प्रेशर 3 महीने बाद बढ़ेगा और मैं मर जाउंगी. डॉक्टर भी समझाते हैं मगर समझ में नहीं आता क्या करूँ मैं.

  19. सर्वेश त्रिपाठी कहते हैं:

    सर मेरे भाई को कुछ दिमागी परेशानी है. जब उसे विपरीत कुछ होता है तो वह परेशान हो जाता है और भाग जाता है. कभी किसी से लड़ाई झगड़ा भी कर लेता है. अपना सामान बाहर भूल जाता है. अभी दो साल से ऐसा हो रहा है. इसके पहले कभी भी नहीं हुआ. शायद किसी लड़की को लव करता है. प्लीज कोई हेल्प करें, मेरा भाई मुझे जान से प्यारा है. मुझे लगता है मैं उसे उससे बात करूँ पर उसकी तबियत कि वजह से डर जाती हूँ. प्लीज मुझे सलाह दें

  20. जनार्दन तिवारी कहते हैं:

    वह जो अपने भीतर अपने स्वयं से खुश रहता है, जिसके मनुष्य जीवन एक आत्मज्ञान है, और जो अपने खुद से संतुष्ट हैं, पूरी तरीके से तृप्त है – उसके लिए जीवन में कोई कर्म नहीं हैं।

  21. हेमंत कुमार कहते हैं:

    मेरी आप लोगों से गुजारिश है आप अपना इलाज करवाएं और अपना प्रॉपर ध्यान रखें, जैसे कि सर ने बताया कि सुबह पार्क में घूमने जायें, खुली हवा में घूमें और डिप्रेशन का इलाज साइकेट्रिस्ट (psychiatrist) करायें. डॉक्टर की लिखी मेडिसिन टाइम से लें, कुछ ही दिनों में आप बिल्कुल ठीक हो जायेंगे.

  22. आनंद सरकार कहते हैं:

    मेरा नाम आनंद सरकार है उम्र 31 साल है. मैं एक प्राइवेट कंपनी में काम करता हूँ. मैं पिछले दो सालों। से डिप्रेसन और तनाव का शिकार हूँ, मुझे सिर्फ लगता है कि मुझे हार्ट की प्रॉब्लम है, 3-4 बार हार्ट स्पेशलिस्ट को भी दिखाया लेकिन कोई प्रॉब्लम नहीं निकली. अब मुझे डर पैदा हो गया है और तो और पेट में गैस बनने लगा है. 24 घंटे मन में बुरे खयाल आते रहते हैं और घबराहट होती है. प्लीज कोई उपाय बतायें.

  23. दिव्या सिंह कहते हैं:

    मुझे परसों से काफी टेंशन हो रही है कोई दवा बताएं.

  24. राजेश मदान कहते हैं:

    काम करने को मन नहीं करता. इमोशन नहीं है. रोना नहीं आता. ख़ुशी नहीं है शोक नहीं है नींद नहीं आती.

  25. दीपक कहते हैं:

    मैं किसी बात को सोच कर बहुत जल्दी टेंशन में आ जाता हूँ और इसमें जैसे मैं पढ़ाई भी नहीं कर पाता, इसलिए मुझे बताएं मुझे क्या करना चाहिए.

  26. नेहा गुरुपंच कहते हैं:

    मुझे इमेजिनेशन वाला डिप्रेशन रहता है क्या करूँ कुछ उपाय बताएं.

  27. कमल मुनिया कहते हैं:

    टेंशन कम करने का अच्छा उपाय ध्यान लगायें, पॉजिटिव थिंकिंग रखें और जो मिला उसमें संतुष्ट रहें.

  28. ललित कहते हैं:

    मुझे भी अच्छी नींद नहीं आती, कितने जगह इलाज करवा लिया लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा, डिप्रेशन व्हीनता रहती है, मैं 24 साल का हूँ कोई ऐसी गोली है तो बताओ.

  29. अनीस कहते हैं:

    मेरा अनीस है मुझे घुटन से हो रही है, मैं क्या करूँ?

  30. पूजा कहते हैं:

    सर मेंरे सिर में 24 घंटे दर्द रहता है और घबराहट भी बहुत रहती है, बहुत बुरे सपने आते हैं, जीने का मन नहीं करता.

    • सैंडी कहते हैं:

      आप सभी अकेले न रहें, दोस्ती में रहें, खूब मजाक करें, टेंशन को दूर फेंक दें, कहीं बाहर घूमने जाएँ और डॉक्टर से डिप्रेशन की दवा भी लें. आप अच्छे हो जायेंगे 100%

  31. डोला कहते हैं:

    सर मैं डिप्रेशन से गुजरा हूँ, लेकिन मैं थोड़ा सा करता हूँ तो मेरे दोनों पैर और हाथ सुन्न महसूस करते हैं.

  32. रंजना कहते हैं:

    कोई हमारी मदद करे प्लीज, हमें छोटी-छोटी बातों से बहुत टेंशन होती है.

  33. रंजना कहते हैं:

    मुझे भी पायल की तरह बहुत परेशानी है, जीवन में बहुत परेशानियों को झेला अब मुझमें कोई ताकत नहीं रही. बहुत बार सुसाइड करने की भी कोशिश की और बार-बार मरने का ख्याल आता है. फिर भी अपने प्रियजनों की परेशानियों को दूर करने के लिए जीना चाहती हूँ. प्लीज कोई मेरी मदद करे, इस डिप्रेशन का कोई इलाज नहीं है क्या?

    • दिनेश कहते हैं:

      मैं मदद कर सकता हूँ.

    • मानव कहते हैं:

      सुबह जल्दी उठें.

    • डॉ अपराजित कहते हैं:

      होमोपथिक दवाई aurum metallicum 30 दिन के लिए रोज एक बार लें और रात को सोते समय chamomilla 6c लें और जब टेंशन हो तब तुरंत लें।

    • बिंदु कहते हैं:

      जो करना चाहती हो वो करो.

    • जनार्दन तिवारी कहते हैं:

      जय श्री राम
      हम सभी डिप्रेशन की समस्या से परेशान लोगों को बताना चाहते है कि डिप्रेशन आपकी जिंदगी से इस तरह गायब हो जाएगा कि आप इस समय यह कल्पना भी नहीं कर सकते।
      हम आप सभी लोगों को बताना चाहता हूँ कि मेरे जिन्दगी में किस तरह से आया
      मैं बचपन से ही आई आई टी से इंजीनियरिंग करना चाहता था और रात के नींद में मैं आई आई टी की कलाश में होता था और हमें पूरा यकीन था कि आने वाले समय में हम आई आई टी में
      होंगें मैं अपने जीवन में बहुत खुश था और अपने कालेज का टापर छात्र था भगवान श्री राम जी में बहुत बिश्वाश था मैं पूरी तरह से श्री राम जी के शरण में था उनकी कृपा की हमेशा अनुभव होता था हमेशा श्री राम जी में खोया रहता था
      धीरे धीरे वो समय मजे से गुजर रहा था मैं पूरी तरह से निडर था फिर वो समय आया जब हमे आई आई टी की तैयारी के लिए कानपुर या कोटा राजस्थान के लिए निकलना था मैं अपने गाँव के एक भईया थें उनसे सलाह लेने के लिए गया उनकी लखनऊ में कई कोचिगें थी भईया ने सबसे पहले हमारा टेस्ट लिया और बताया कि आप आई आई टी की तैयारी के लिए सही नहीं हो लेकिन हमे अपने उपर तथा श्री राम जी के उपर पूरा यकीन था कि मैं आई आई टी में पहुंच कर रहुगा मैंने भाईया की बात नहीं मानी और भाईया जी हमारे घर आऐ और कहा कि ये लड़का आप सभी लोगों को बेकूफ बना रहा है इसको दुसरी तैयारी करनी चाहिए मेरे घर की आर्थिक स्थिति खराब थी अब तो हमारे पापा जी ने आई आई टी की तैयारी के लिए एकदम शाफ मना कर दिया अब तो हमारे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं अपने सपने को पूरा करने के लिए क्या करूँ मैं पापा को यकीन दिलाने में असफल रहा कि मैं आई आई टी निकल लूंगा तब हमने पापा को बेकूफ बना कर बैंक से लोन निकल कर तैयारी के लिए कानपुर निकल लिया और मैंने सोचा कि जब आई आई टी निकल जाऐगी तब मैं पापा को मना लुंगा और मैं तैयारी में जुट गया खुब मन लगा कर पढ़ रहा था धीरे धीरे समय बितता गया जब एक महीना रह गया था आई आई टी की परीक्षा को रह गया हमे चिकन पाक्स हो गया उससे छुटकारा मिला हि था कि डेंगु हो गया डाक्टर ने सलाह दिया कि आपको कमजोरी बहुत जादा है आपको आराम करने की बहुत ज्यादा जरूरत है मैं बहुत चाहकर भी पढ़ने में असमर्थ रहा मेंरा आई आई टी का अन्तिम मैंका था मेरे सपने दम तोड़ रहें थे मेंरे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूँ मैं बिस्तर पर पड़े पड़े भगवान श्री राम जी को कोसने लगा कि हे प्रभु आप मेरे साथ अइशा क्यों कर रहे हैं आप मेरे मजबूरी नहीं समझ रहें हैं आप मेरे साथ दुश्मन जइसा बरताव क्यों कर रहे हैं मैं भगवान श्री राम जी को चैलेंज करने लगा कि किसी कितने बड़े योद्धा का दोनों हाथ बांधकर उसके सामने तलवार रख दो तो ओ अपनी बिरता कंहा दिखा पाएगा
      यही नहीं रूका परम दयालू प्रभु श्री राम जी को पापी निर्दयी पता नहीं क्या क्या कहकर कोसने लगा और बहुत ज्यादा टेंशन ले लिया मेंरी नींद गायब हो गई दिल धबराने लगा शर दर्द होने लगा पूरा शर भारी हो गया शर में जकड़न होने लगा उदासी आ गयी बुरे सपने आने लगे पढ़ने से जी धबराने लगा हमेशा डर लगने लगा अकेले में खुब रोने लगा जब कई दिनों तक नींद नहीं आई तब किसी ने सलाह दिया कि डाक्टर से मिलो तब मैं डाक्टर के पास गया डाक्टर साहेब ने बताया कि आप को डिप्रेशन नामक बीमारी ने जकड़ लिया है हमारा दवा चलने लगा कई महीनों तक दवा चला लेकिन डॉक्टर साहब की फीस वहुत ज्यादा थी 600 रूपये और दवा का पइसा किसी ने सलाह दिया कि हैलेट में दिखावो वहां दिखाने लगा वहां की दवा की कीमत बहुत महँगी थी करीब दो साल दवा खाने के बाद मैंने डाक्टर साहब से कहा कि साहब मैं दवा खाते खाते ऊब गया हूँ डाक्टर साहब ने हमे बडी तेज डांटा और कहा कि खाना खाते खाते नहीं ऊबे जब से पैदा हुए सांस ले रहे हो तबसे नहीं ऊबे फिर हिम्मत जुटा कर मैंने पूंछा कि मैं अब पहिले जैसा नहीं हो सकता तो डॉक्टर साहब ने कहा हो सकते हो मैं दवा नहीं लिया हमे शारी दुनिया पापी श्वाथी मतलबी लगने लगीं मैं रूम पर आकर खुब रोया मरने की कई कोसीस किया मैं अपने आप से कहने लगा कि इश पापी शंसार में रहना बेकार है यहा कोई किसी का नहीं है पर मैं मर नही सका इसके बाद मैं एक दुसरे डाक्टर साहब के पास गया और रोने लगा डाक्टर साहब दिल्ली एम्स से डीएम में गोल्ड मेंडलिश्ट थे उन्होंने सबसे पहले अपने आदमी को बुलाया कहा इनकी सारी फीस वापस करो और कहा कि आप गलत रास्ते पर है हमने तुरंत डाक्टर साहब से पूछा कि मैं अव ठीक नहीं हो सकता तो डॉक्टर साहब ने कहा कि कैंसर हो गया है आपको की नहीं ठीक हो सकता यार हम आपको बता दें कि हम ईश्वर के समछ कीड़े मकोडे भी नहीं हैं आप उन्हीं के शरण में सच्चे दिल से पूरे 100% बिश्वाश के साथ जाओ और अपने आप को उन्हीं को सैंप दो हमने कहा डॉक्टर साहब हमे उनपे विश्वास नहीं रहा तब डॉक्टर साहब ने कहा कि जब मर जाते हैं लोग तभी कहते है कि राम राम सत्य है यार जीते जी मान लो हमने कहा कि डाक्टर साहब मैं बहुत मानता था तब डॉक्टर साहब तपाक शे बोले मानते होते तो ये हाल न होता तुम्हे पूरा यकीन होता कि मेरे शाथ दुनिया के मालिक हैं जो करेंगे अच्छा करेंगे तो काहे का डर और हमें थोड़ी सी दवाई दिए और मैं फिर श्री राम जी के पास आया और कहा कि हे प्रभु हमे माफ कर दो और उन्हीं के ध्यान में रहने लगा फिर प्रभु श्री राम जी की दया बरसने लगी और मैं धनवाद में 2016 में एडमीसन लिया और ओ उसी साल आई आई टी हो गया मेरा जो आत्मविश्वास चला गया था सब आ गया हाॅ अब ऐ कभी नहीं जायेगा और मेरी छोटी बहन इसी धटना से प्रेरित होकर एम्स दिल्ली से पढ़ने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रही है वह मनोचिकित्सक बनकर लोगों की सेवा करना चाहती हैं
      आप सोचो बुद्ध जी सारा राज पाठ छोड़ दिये किसके लिए बिबेका नन्द जी इन सब को पढ़ो श्री राम जी में खो जाओ सब उस परम पिता परमेश्वर को सच्चे दिल से शैंप दो देखो डिप्रेशन कहा भाग जाएगा जो हो रहा है होने दो उसमें तुम अपना दिमाग न लगाओ
      जय श्री राम जी

    • जनार्दन तिवारी और सिंटू तिवारी कहते हैं:

      भूल कर भी कोई गलत कदम मत उठाना. हाँ एक बात बता दूँ पहले जब कोई सुसाइड करता था तो हम उसे कायर समझते थे लेकिन ऐसा नहीं है, डिप्रेशन की बीमारी की वजह से ऐसे खयाल आते हैं और इंसान बेबकूफी कर बैठता है. प्लीज अगर गंदे खयाल (जैसे सुसाइड) आयें तो यह समझना कि बीमारी की वजह से हैं. सच जिंदगी बहुत प्यारी है, श्री राम जी पे भरोसा रखो, थोड़ा धीरज से काम लो, आगे सब ठीक होने वाला है. आप यह समझो कि आप के ऊपर वाले कि कृपा हुई है अपने डिप्रेशन को जान लिया है, अब एक बार छुटकारा लेलो फिर आप जिंदगी में कभी डिप्रेशन आपके नजदीक नहीं आयेगा और आप डिप्रेशन में फसे लोगों को बचायेंगे.

  34. संतोष महतो कहते हैं:

    मैं संतोष महतो झारखंड रांची से मुझे डिप्रेशन हो गया है उपाय बताएं क्या ट्रीटमेंट किया जाए?

  35. लीलाधर नायक कहते हैं:

    सर मेरे ब्रेन में बहुत जकड़न होती है. ब्रेन भारी-भारी रहता है. क्या मेरे ब्रेन में कोई प्रॉब्लम है. मैं थोड़ी सी बात पर चिंतित हो जाता हूँ.

  36. मयंक सोनी कहते हैं:

    सर मुझे हर 3-4 महीने में हर छोटी-छोटी बात की टेंशन हो जाती है.

  37. प्रिया कहते हैं:

    मुझे छोटी सी बात से टेंशन हो जाती है. मुझे सपने भी बुरे आते हैं मैं क्या करूँ?

  38. पायल कहते हैं:

    Plz मुजे कोइ दवा बताइये, मुजे हर छोटी छोटी बात की टेंशन होती है और मुजे नींद भी नही आती, बड़ी मुश्किल से नींद आने के बाद बुरे सपने आते हैं. नींद खुल जाने के बाद नींद तो आती ही नही और बुरे खयाल आते है. मेरा हर दिन बडी मुश्किल से गुजरता है और मुझे बार बार मरने के खयाल आते हैं, मैं अकेले अकेले रोया करती हूं, मेरी उम्र 24 साल है plz कोइ दवा बताइये.

    • पारस दुबे कहते हैं:

      आप सुबह नहाकर रोज शिवलिंग पर एक लोटा पानी में थोड़ा सा कच्चा दूध और शुगर मिलाकर ॐ नमः शिवाय बोलते हुए शिवलिंग पर चढ़ाएं. यह काम 43 दिनों तक करें. अगर मानसिक शांति मिले आप लाइफटाइम तक कर सकती हैं.

    • अनाम कहते हैं:

      पायल जी सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर अपने आसपास किसी पार्क में या कोई अच्छी जगह खुले में घूमने जाना शुरू कर दें. फ्रेश ऑक्सीजन से आपका माइंड अच्छा होगा और साथ में 30-40 मिनट तक रोज सुबह योग करें. पॉजिटिव सोच रखें हमेशा, ज्यादा न सोचा करें किसी भी बात के लिए, अपनेआप को किसी काम में बिजी रखें और जो काम करने से आपको ख़ुशी मिलती है वो काम ज्यादा से ज्यादा करें. हर रोज एक मंदिर जरूर जाया करें, वहां कुछ टाइम बैठा करें. इससे आपको अच्छी नींद भी आयेगी और आपका मन खुश रहेगा.

    • ऋषि कहते हैं:

      पायल मेरे साथ भी यही हो रहा है यार, अगर तुम्हे relief मिले तो मुझे जरूर बताना प्लीज.

    • सचिन्द्र यादव कहते हैं:

      हरे राम हरे कृष्णा जपा करो सब ठीक हो जायेगा.

    • अनाम कहते हैं:

      आप सुबह नहाकर रोज शिवलिंग पर एक लोटा पानी में थोड़ा सा कच्चा दूध और शुगर मिलाकर ॐ नमः शिवाय बोलते हुए शिवलिंग पर चढ़ाएं. यह काम 43 दिनों तक करें. अगर मानसिक शांति मिले आप लाइफटाइम तक कर सकती हैं. AP ye try kijiye acha lagega

    • अनाम कहते हैं:

      आप हनुमान चालीसा का पाठ करें, इससे बुरे सपने नहीं आएंगे और आपको शांति मिलेगी.

    • सलीम कुरैशी कहते हैं:

      जो भी भाई या बहन डिप्रेशन के रोग से पीड़ित हैं उन्हें बताना चाहूँगा यह कोई बीमारी नहीं है बस एक साइको है हमारा. जब काम बढ़ जाता है या कोई हमें हर्ट करता है या फिर पेट में कब्ज होने से भी द्प्रेस्सिओं जैसा फीलिंग आने लगता है. मन में उलटे-सीधे खयाल आते हैं, हार्टबीट बढ़ जाती है, अकेले में डर लगता है आदि.इसके उपाय निम्न हैं –

      • रात को 10 बजे सोना और 4 बजे उठना.
      • अकेले नहीं रहना.
      • योग या पूजा या नमाज आदि पढ़ना.
      • सुबह उठने पर गर्म पानी में आधा नींबू निचोड़ के पियें.
      • हंसने की आदत डालें.
      • एक टेबलेट मिलती है मेडिकल स्टोर पे LAM-PLUS 0.5 यह टेबल आप सोने के टाइम पर ले सकते हैं, रात को एक बार.

      फ्रेंड्स मैं कोई डॉक्टर नहीं हूँ, प्रॉब्लम्स मेरी भी आप सभी की तरह सेम हैं. मेरे पापा और दादा हकीम थे, उनसे ही सीखा है. किसी फ्रेंड को मेरी बात अच्छी न लगी हो तो प्लीज यार माइंड मत करना. छोटा समझ कर माफ़ कर देना.

    • सचिन्द्र यादव कहते हैं:

      आप गीता पढ़िए, महापुरुषों की जीवनी पढ़िए.

  39. आकाश सिंह पटेल कहते हैं:

    सर मैं पिछले कई दिनों से डिप्रेशन में हूँ. समाज में नहीं आता मैं क्या करूँ. मैं किसी न किसी बात को लेकर या न होने वाले रिएक्शन को भी सोचकर मुझे बहुत अजीब लगता है जैसे कि अब यह होने ही वाला है. Parents के बारे में सोच कर मैं बहुत ज्यादा नर्वस हो जाता हूँ.मैं कम्पटीशन की तैयारी करता हूँ.मेरी उम्र 22 साल है. प्लीज सर मुझे कुछ suggestion दीजिये ताकि मैं इस दलदल से पार हो जाऊं.

    • जनार्दन तिवारी कहते हैं:

      भैया जल्दी बाहर निकलो आगे से सब अच्छा होने वाला है आप अपने आपको श्री राम जी के हवाले कर दो 100%, और अपना मन पढाई में लगाओ. मोदी जी अपने सपने में कभी सोचे नहीं होंगे कि वो प्रधान मंत्री बन सकते हैं, वो सिर्फ अपना कर्म ईमानदारी से करते रहे और सफलता अपने आप उनके पास आ गई.

  40. यश पाल कहते हैं:

    प्लीज-प्लीज, मुझे बहुत ज्यादा टेंशन हो जाती है छोटे-छोटे काम करने पर. थोड़ी सी भी प्रॉब्लम में मुझे बहुत ही ज्यादा टेंशन होती है, 3-4 साल हो गए. मेरी उम्र 28 साल है. प्लीज मुझे कोई टेबलेट बताएं.

  41. विकास गुप्ता कहते हैं:

    मैं बार-बार डिप्रेशन का शिकार हो जाता हूँ और ठीक से नींद नहीं आती है, क्या इसकी कोई दवा है?

    • रिया कहते हैं:

      मैं दो साल से डिप्रेशन में हूँ, उसकी वजह से मेरी मानसिक हालत बहुत खराब हो गई है. मैं बहुत शांत थी पर अब बहुत चिडचिडापन आ जाता है. पागल जैसे रो देती हूँ मैं ज्यादा टेंशन होने पर. आप सब बंद होने की दवा दो प्लीज.

    • उपेंद्र सिंह राठौर कहते हैं:

      सबसे पहले यह देखो सोचो कि इस दुनिया में सब नाशवान है ओर हम इन सब चीजों के लिए टेंशन लेते हैं जो हमारी है ही नहीं जो लिया यहीं से लिया जो दिया यहीं दिया फिर हम टेंशन क्यों ले
      दूसरी बात यह है कि आप अपने बारे मे सोचे दूसरों के बारे मे न सोचे कि कोई हमसे क्या कहेगा हमारे बारे मे क्या सोचेगा इन सब बातों को अपने मन से निकाल दो सब अच्छा होगा जितना आपके पास है उतने मे मस्त रहो जो काम कर रहे हो उसको करते रहो अपने आप एक दिन वो काम पूरा हो जाएगा बशर्ते बिना टेंशन के काम करना है
      सब अच्छा होगा
      आप योग करें रोज सुबह घूमने जाए अगर कोई पार्क नहीं हो तो अपनी घर के छत पर घूमे सुबह सुबह भगवान का नाम लं सब अच्छा होगा
      धनयबाद

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.