डायबिटीज के लक्षण और घरेलू इलाज – Diabetes Symptoms and Treatment in Hindi

मधुमेह या डायबिटीज को diabetes mellitus भी कहा जाता है। आजकल की जीवन शैली में यह बीमारी काफी आम हो गई और किसी को भी हो सकती है।

डायबिटीज मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है – टाइप – 1 डायबिटीज जिसमें हमारा शरीर इन्सुलिन उत्पादित नहीं करता और टाइप -2 डायबिटीज जिसमे हमारा शरीर इन्सुलिन उत्पादित तो करता है लेकिन वह काफी नहीं होता या वह ठीक से अपना काम नहीं करता।

डायबिटीज के सबसे आम लक्षण हैं – थकान होना, वजन कम होना (हालाँकि कि आप खूब खाते हों), अत्यधिक प्यास लगना, बार-बार और अधिक पेशाब लगना, आंखों की रोशनी का धुंधला होना और किसी चोट का जल्दी न भरना।

चूँकि डायबिटीज का कोई परमानेंट इलाज नहीं है लेकिन आप अपने ब्लड के शुगर लेवल को कंट्रोल करके एक नार्मल लाइफ जी सकते हैं। ऐसे कई प्राकृतिक घरेलू उपचार हैं जिनको अपनाकर आप अपने शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें – डायबिटीज को कंट्रोल करने वाले 10 खाद्य पदार्थ

यहाँ पर डायबिटीज को कंट्रोल करने के 10 सबसे बेस्ट घरेलू उपचार दिए जा रहे हैं। लेकिन फिर भी डायबिटीज के proper diagnosis और ट्रीटमेंट के लिए अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

1. करेला (Bitter Gourd)

करेला डायबिटीज को कंट्रोल करने में काफी उपयुक्त साबित हो सकता है, क्यूंकि इसमें ब्लड ग्लूकोज को कम करने के गुण होते हैं। यह पूरे शरीर के ग्लूकोस मेटाबोलिज्म को प्रभावित करता है।

करेला अग्नाशय में इन्सुलिन के स्त्राव बढ़ाने में मदद करता है और इन्सुलिन रेसिस्टेंस को कम करता है। इसलिए करेला दोनों ही प्रकार की डायबिटीज (टाइप 1 और टाइप 2) में फायदेमंद होता है।

  • हर रोज सुबह खाली पेट एक गिलास करेले का जूस पियें। ऐसा लगातार दो महीने तक रोज करें।
  • इसके साथ ही आप अपने भोजन में भी करेले की सब्जी को शामिल कर सकते हैं।

2. दालचीनी (Cinnamon)

दालचीनी के पाउडर में इन्सुलिन को प्रोत्साहित करने की शक्ति होती है, जिससे शुगर लेवल कम होता है। इसमें बायोएक्टिव कंपोनेंट्स होते हैं जो मधुमेह को रोकते हैं और उससे लड़ते हैं।

कुछ शोधों से यह साबित हुआ है कि अनियंत्रित टाइप-2 डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए दालचीनी काफी कारगर उपाय होता है।

लेकिन दालचीनी का अत्यधिक सेवन न करें क्योंकि इसमें coumarin नामक विषाक्त पदार्थ होता है जो लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है।

  • आधा चम्मच दालचीनी पाउडर को 1 कप पानी में घोलकर रोज पियें।
  • दालचीनी की लकड़ी के 3-4 टुकड़ों को 1 कप पानी में 20 मिनट तक उबालकर इसका सेवन करें।
  • आप दालचीनी के पाउडर को अपने खाने में भी डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

3. मेथी (Fenugreek)

मेथी में hypoglycemic नामक गुण होता है जो मधुमेह को कंट्रोल करता है, ग्लूकोस टॉलरेंस को बढ़ाता है और ब्लड शुगर लेवल को कम करता है। यह ग्लूकोस-डिपेंडेंट इन्सुलिन के स्त्राव को भी बढ़ावा देता है। मेथी में फाइबर प्रचुर मात्रा में होता है जो कार्बोहायड्रेट और शुगर के अवशोषण को कम करता है।

  • रात में 2 चम्मच मेथी के बीजों को भिगोकर रख दें। सुबह उठकर खाली पेट इस पानी को बीजों के साथ पी लें। ग्लूकोस लेवल को कम करने के लिए इस उपचार को लगातार 2 महीने तक करें।
  • रोज 2 चम्मच मेथी के बीजों के पाउडर को दूध में घोलकर पियें।

4. आमला

आमला में भरपूर मात्रा में विटामिन C होता है और यह अग्नाशय (pancreas) के कामकाज को ठीक करता है।

  • दो या तीन आमला लें, उनमें से बीज निकालकर अलग कर दें और बचे आमला को पीस लें। पीसने के बाद इसे कपड़े से निचोड़कर जूस निकाल लें। इस जूस की 2 चम्मच को 1 कप पानी में घोलकर रोज खाली पेट पियें।
  • आप इस जूस को करेले के जूस के साथ मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं।

5. जामुन

जामुन में anthocyanins, ellagic acid और hydrolysable tannins नामक पदार्थ होते हैं जो ब्लड के शुगर लेवल को कंट्रोल करके मधुमेह पर काबू पाने में मदद करते हैं।

मधुमेह के मरीज के लिए जामुन के पत्ते, जड़, बीज, फल सभी फायदेमंद होते हैं। शोध के द्वारा यह पता चला है कि जामुन के फलों और बीजों में hypoglycemic effects होता है जो ब्लड और यूरिन के शुगर लेवल को बहुत तेजी से कम करता है।

जब जामुन बाजार में उपलब्ध हों तो इन्हें अपने भोजन में जरुर शामिल करें। आप जामुन के बीजों का पाउडर बनाकर भी दिन में 2 बार पानी के साथ सेवन कर सकते हैं।

6. आम के पत्ते

नाजुक और कोमल आम की पत्तियां मधुमेह को काबू में करने के लिए उपयोगी साबित हो सकती हैं। यह इन्सुलिन लेवल को रेगुलेट करती हैं और blood lipid profiles को ठीक करती हैं।

  • रात में 10 से 15 कोमल आम की पत्तियों को पानी में भिगोकर रख दें। सुबह खाली पेट इस पानी को छानकर पी लें।
  • आम की पत्तियों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें। इस पाउडर को आधा चम्मच सुबह-शाम रोज पानी के साथ सेवन करें।

7. करी के पत्ते

करी के पत्तों में भी एंटी-डायबिटिक प्रॉपर्टीज होती हैं। ऐसा माना जाता है कि करी के पत्तों में ऐसा पदार्थ पाया जाता है जो स्टार्च से ग्लूकोस बनने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। यह हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल और मोटापा (obesity) को भी कम करता है।

इसलिए आप रोज सुबह 10 करी के पत्तों को चबाकर खाएं। अच्छे रिजल्ट पाने के लिए इस प्रक्रिया को प्रतिदिन लगातार 4 महीनों तक अपनाएं।

8. एलोवेरा

एलोवेरा फास्टिंग ब्लड शुगर लेवल को कम करने में मदद करता है। इसमें पाए जाने वाले phytosterols, टाइप-2 डायबिटीज पर antihyperglycemic इफ़ेक्ट करते हैं।

एलोवेरा जेल को तेजपत्ता और हल्दी के साथ सेवन करने से मधुमेह को कम करने में काफी मदद मिलती है। इस हर्बल मेडिसिन को बनाने के लिए नीचे दी गई स्टेप्स अपनाएं –

  • 1 चम्मच एलोवेरा जेल में आधा-आधा चम्मच तेजपत्ता पाउडर और हल्दी मिला लें। अब इसे अच्छी तरह से मिक्स कर लें।
  • इस मिश्रण को रोज दिन में 2 बार सेवन करें।

9. अमरुद (Guava)

अमरूद में अत्यधिक विटामिन C और फाइबर पाया जाता है जो ब्लड शुगर को कम करता है। अच्छे रिजल्ट पाने के लिए अमरूद के ऊपरी कवर को छीलकर कर अलग कर दें और फिर सेवन करें।

नोट – अमरूद का अत्यधिक सेवन न करें।

10. भिन्डी

भिन्डी में polyphenolic molecules होते हैं जो ब्लड शुगर लेवल को कम करके डायबिटीज को कंट्रोल करते हैं। 2011 में हुई एक रिसर्च के अनुसार भिन्डी के बीजों और छिलकों में एंटीडायबिटिक और antihyperlipidemic potential होता है।

  • भिन्डी को टुकडो में काट लें और पानी में भिगोकर रातभर के लिए रख दें। सुबह इसे छानकर भिन्डी को अलग कर दें और पानी को पी लें। यह कुछ हफ्तों तक रोज करें।
  • भिन्डी को अपने भोजन में भी शामिल करें।

Extra Tips

  • अपने ब्लड शुगर लेवल को मॉनिटर करते रहें।
  • हेल्थी डाइट प्लान को अपनाएं और नियमित एक्सरसाइज और योग करें।
  • अपने भोजन में फाइबर युक्त पदार्थों का ज्यादा सेवन करें।
  • रोज कुछ समय के लिए धूप में खड़े होने से भी डायबिटीज कंट्रोल होती है क्यूंकि इससे शरीर में विटामिन D बनता है जो इन्सुलिन प्रोडक्शन के लिए जरूरी होता है।
  • खूब पानी पियें।
  • गहरी-गहरी साँस (deep breathing) लें, मैडिटेशन करें और तनाव मुक्त रहें।

2 Responses

  1. सलीम कहते हैं:

    शुगर में किसमिस का उपयोग कर सकते हैं क्या.

  2. चंद्रपाल कहते हैं:

    शुगर वाले को गर्मी में ठंड क्यों लगती है?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.