पेट और आंत साफ करने के 10 घरेलू उपाय

पेट और आंत हमारी पाचन प्रणाली के सबसे मुख्य अंग होते हैं। इन्ही के जरिये हमारा शरीर भोजन में से विटामिन्स, पोषक पदार्थ, पानी और नमक प्राप्त करता है। साथ ही, यह भोजन के बचे हुए अपशिष्ट पदार्थों को गुदा के जरिये बाहर निकालते हैं।

लेकिन जब यह ठीक से काम नहीं करते तो यह भोजन में मौजूद विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने की जगह उन्हें अवशोषित करने लगते हैं। इसके कारण हमें सिरदर्द, पेट फूलना, कब्ज, पेट की गैस, वजन बढ़ता, ऊर्जा की कमी, थकान जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

यदि भोजन ठीक से न पचे तो भी यह समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं (ज्यादातर भोजन जो हम खाते हैं वो पेट और आंत में जाकर अन्य एडिटिव, प्रिजरवेटिव और केमिकल्स के साथ मिलता है।) इससे आंत में म्यूकस बनने लगता है जो शरीर में विषाक्त पदार्थों को निकालता है।

लेकिन पेट और आँतों को नियमित रूप से साफ करके आप आसानी से इन विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पा सकते हैं और आँतों में हेल्थी बैक्टीरिया की ग्रोथ को बढ़ावा दे सकते हैं। इससे शरीर की भोजन में से विटामिन और पोषक पदार्थ अवशोषित करने की क्षमता भी बढ़ेगी जिससे ऊर्जा बढ़ाने में मदद मिलेगी। पेट और आंतों को साफ करने के लिए कई मेडिकल उपचार उपलब्ध हैं, लेकिन ज्यादातर लोगों को सिर्फ कुछ आसान घरेलू उपचार अपनाकर ही लाभ मिल जाता है।

यहाँ पर पेट और आंत को साफ करने में मदद करने वाले 10 सबसे कारगर घरेलू उपाय दिए जा रहे हैं। लेकिन यदि आप किसी मेडिसिन का सेवन कर रहे हैं या किसी हेल्थ प्रॉब्लम से गुजर रहे हैं तो इनका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

1. पानी

पेट को साफ करने का सबसे अच्छा तरीका होता है खूब पानी पीना। आपको रोज कम से कम 10 से 12 गिलास पानी का सेवन करना जरूरी है। पानी का नियमित सेवन करने से शरीर को हानिकारक विषाक्त पदार्थ और अपशिष्ट पदार्थों को प्राकृतिक रूप से बाहर निकालने के लिए जरूरी तरल और चिकनाई मिल जाती है।

साथ ही, पानी का भरपूर सेवन करने से शरीर की प्राकृतिक पेरिस्टाल्टिक प्रक्रिया (भोजन को नरम और मुलायम बनाने की प्रक्रिया) बढ़ती है, जिससे भोजन पाचन तंत्र में आसानी से आगे बढ़ता है। इसके आलावा, पानी शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए भी जरूरी होता है। पानी के साथ- साथ आप अन्य तरल पदार्थ जैसे फलों और सब्जियों के रस का भी सेवन कर सकते हैं।

2 सेब का रस

ताजा सेबफल का रस पेट और आंतों की सफाई के लिए सबसे फायदेमंद पदार्थों में से एक है। इसका नियमित सेवन करने से मल त्याग ठीक होता है, विषाक्त पदार्थ को तोड़ने में मदद मिलती है और पाचन तंत्र और लिवर को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है। ताजा सेबफल का रस ज्यादा फायदेमंद होता है लेकिन यह उपलब्ध न हो तो आप पैक आर्गेनिक जूस का सेवन भी कर सकते हैं।

  1. रोज अपने दिन की शुरुआत एक गिलास बिना छाने सेब के जूस से करें।
  2. 30 मिनट के बाद एक गिलास पानी का सेवन करें।
  3. इस प्रक्रिया को दिन में कई बार करने और तीन दिन के लिए लगातार करें।
  4. इस उपचार को करने के दौरान कोई भी ठोस खाद्य पदार्थ का सेवन न करें।

3. नींबू का रस

नींबू के रस में एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज होती हैं और इसमें अत्यधिक मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है जो पाचन तंत्र के लिए अच्छा होता है। इसलिए पेट और आंतों को साफ करने के लिए नींबू का रस फायदेमंद होता है।

  • एक गिलास हलके गर्म पानी में एक नींबू निचोड़ लें और एक चुटकी नमक और थोड़ा सा शहद मिलाएं। इसका सेवन रोज सुबह खाली पेट करें। इससे आपकी ऊर्जा बढ़ेगी, मल त्याग ठीक होगा और स्किन सुंदर बनेगी
  • एक गिलास सेब के रस में तीन चम्मच ताजा नींबू का रस मिलाएं। इसका सेवन दिन में तीन-चार बार करें। यह आपकी आंतो में से म्यूकस को निकाल देगा।

इनमें से किसी भी एक उपचार को कुछ दिनों के लिए रोज करें।

4. कच्ची सब्जी का रस

पेट को साफ करने के लिए यह जरूरी है कि आप दो-तीन दिनों के लिए पके हुए या प्रॉसेस किये हुए भोजन का सेवन न करें। दिन में तीन-चार बार सॉलिड फूड की जगह ताजा सब्जियों के जूस का सेवन करें। खासतौर से, हरी सब्जियों में क्लोरोफिल होता है शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। साथ ही, सब्जियों में मौजूद विटामिन्स, मिनरल्स, एमिनो एसिड्स और एंजाइम्स शरीर को हेल्थी और ऊर्जावान बनाये रखने में मदद करते हैं। आप हर्बल टी का सेवन भी कर सकते हैं।

हम आपको यह भी सलाह देना चाहते हैं कि बाजार में मौजूद बने-बनाये सब्जियों के जूस का सेवन न करें क्योंकि इनमें अपशिष्ट पदार्थों को  ब्रेक करने वाले प्रभावी एंजाइम मौजूद नहीं होते। इसकी जगह आप घर पर ही तजा सब्जियों का जूस बनाकर सेवन करें। आप गाजर, चुकंदर, मक्का, स्क्वाश, पालक, गोभी आदि के जूस को बनाकर सेवन कर सकते हैं।

5. फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ

फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से पेट से विषाक्त पदार्थों को साफ करने में मदद मिलती है। फाइबर मल को मुलायम बनाता है और शौच को ठीक करता है, जिसके फलस्वरूप आखिर में शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है। साथ ही, फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का नियमित सेवन करते रहने से आँतों की विभिन्न परेशानियाँ भी दूर होती हैं।

फाइबर युक्त पदार्थ जैसे नाशपाती, सेबफल, साबुत अनाज, जौ, मसूर, संतरा, शकरकंद आदि का नियमित सेवन करें।

6. दही

पेट और आंत साफ करने के लिए नियमित दही का सेवन भी काफी लाभकारी होता है। दही एक प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थ होता है जिसमें पाचन को सुधारने वाले ‘गुड बैक्टीरिया’ होते हैं। यह इन्फलामेशन के कारण होने वाली शौच सम्बन्धी समस्याओं को भी ठीक करता है।

साथ ही, इसमें अच्छी खासी मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है जो पेट के अंदर की लाइनिंग में सेल्स की ग्रोथ को रोकता है। इसलिए यह पेट की कई समस्याओं जैसे अपच, पेट फूलना, अनियमित शौच आदि को ठीक करने में फायदेमंद होता है।

आप दही को ज्यों का त्यों सेवन कर सकते हैं या इसमें ताजा फलों जैसे सेबफल, नींबू, केला और जामुन आदि को भी मिला सकते हैं।

7. अलसी के बीज

अलसी के बीज ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, एंटीऑक्सीडेंट्स और नेचुरल फाइबर के काफी अच्छे स्त्रोत होते हैं। इसलिए अपने पेट को साफ करने के लिए अपने भोजन में अलसी के बीजों को शामिल करना काफी अच्छा तरीका होता है। अलसी के बीज पेट में अतिरिक्त पानी को अवशोषित करेंगे और विषाक्त पदार्थों को आँतों के जरिये पेट से बाहर निकालने में मदद करेंगे। साथ ही, अलसी के बीज कैंसर, दिल की बीमारी और मधुमेह से भी रक्षा करते हैं।

आप अलसी को रोटी, दही, फल के जूस या अन्य खाद्य पदार्थों में मिलाकर सेवन कर। फास्ट रिजल्ट पाने के लिए एक चम्मच अलसी को एक गिलास पानी में घोलें और खाना खाने के आधे घंटे पहले सेवन करें।

8. समुद्री नमक

समुद्री नमक में विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने वाले गुण होते हैं इसलिए यह भी पेट और आंतों को साफ करने के लिए काफी फायदेमंद होता है।

  • रोज सुबह एक गिलास पानी में डेढ़ चम्मच समुद्री नमक मिलाकर उबालें और सेवन करें।
  • अब कुछ मिनट इंतजार करें और फिर सीधे लेट जाएँ और अपने पेट को नीचे की ओर आंतों तक धीरे-धीरे मालिश करें। ऐसा करने से पेट और आंतों में फँसा हुआ भोजन निकल जायेगा। साथ ही, यह मल त्याग को आसान बनाएगा, विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालेगा और पैरासाइट और बैक्टीरिया को पनपने से रोकेगा।
  • इस उपचार को महीने में 5 बार करें।

चूँकि इस उपचार को करने से दस्त हो सकते हैं, इसलिए यह जरूरी है कि आप भरपूर मात्रा में पानी और तजा फलों के जूस का सेवन करें। यदि आपको उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) या दिल की समस्या है तो इस उपचार को न करें।

9. एलोवेरा

एलोवेरा अपने विषहरण और रेचक गुणों के कारण काफी प्रचलित है, इसलिए इसे पेट और आंत साफ करने में भी काफी लाभकारी माना जाता है। एलोवेरा में मौजूद मेडिकल गुण आपके पेट को साफ करने के साथ-साथ सिरदर्द, स्किन इन्फेक्शन, डायरियापेट का दर्द और कब्ज को ठीक करने में भी मदद करता है।

  • ताजा एलोवेरा के जेल में आधा नींबू डाल दें और ब्लेंडर में डालकर अच्छे से घोल लें।
  • अब इस जूस को 2 से 3 घंटे के लिए फ्रिज में रख दें।
  • इसका सेवन दिन में चार-पाँच बार करें।
  • इस उपचार को कुछ दिनों के लिए रोज अपनाएँ।

10. अदरक

किसी भी प्रकार की पेट की समस्या को ठीक करने के लिए अदरक को सबसे आसानी से उपलब्ध औषधि माना जाता है। यह पेट फूलने की समस्या को ठीक कर सकता है, विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और पेट के कामकाज को ठीक करता है। यह पेट में पाचक रसों के स्त्राव को बढ़ाकर पाचन को सुधारता है।

  • आप अदरक को किसी भी रूप में सेवन कर सकते हैं जैसे किसकर, जूस बनाकर या सब्जी में डालकर।
  • दो कप कप गर्म पानी में एक चम्मच अदरक का रस और एक चौथाई कप नींबू का रस मिलाएं। आप इसमें स्वादानुसार शहद भी मिला सकते हैं। अब इस मिश्रण को दो या तीन भागों में बाँट लें और दिन भर में सेवन करें।
  • आप अदरक को ग्रीन टी में मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं।

नोट – गर्भवती महिलाएं अदरक का सेवन न करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.